डॉ. भीमराव अंबेडकर की मृत्यु के जितने वर्ष बीतते जा रहे हैं, उनके महत्व व उनकी प्रासंगिकता में उतना ही इजाफा होता जा रहा है : मुख्यमंत्री

142
0
SHARE

पटना – प्रदेश जदयू द्वारा अंबेडकर जयंती का राज्यव्यापी आयोजन किया गया। मुख्य कार्यक्रम पटना के हज भवन में मौलाना मजहरूल हक ऑडिटोरियम में आयोजित किया गया, जिसमें पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष व बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार, प्रदेश अध्यक्ष बशिष्ठ नारायण सिंह, राष्ट्रीय महासचिव श्याम रजक, मंत्री महेश्वर हजारी, पूर्व मंत्री अशोक चौधरी एवं पूर्व मंत्री नरेन्द्र सिंह मौजूद रहे।

कार्यक्रम को संबोधित करते हुए नीतीश कुमार ने कहा कि बाबासाहेब डॉ. भीमराव अंबेडकर की मृत्यु के जितने वर्ष बीतते जा रहे हैं, उनके महत्व व उनकी प्रासंगिकता में उतना ही इजाफा होता जा रहा है। नई पीढ़ी में उनके प्रति गजब का आकर्षण है। उन्होंने कहा कि संविधान का मूल मतलब है सबको समान अधिकार। संविधान प्रदत्त अधिकारों का उपयोग करने के लायक जो लोग नहीं हैं, उन्हीं को सक्षम बनाने के लिए आरक्षण का प्रावधान है। इसे समझने की जरूरत है। जब तक यह लक्ष्य हासिल ना हो जाय, इससे छेड़छाड़ हो ही नहीं सकता। अगर कोई छेड़छाड़ करना भी चाहे तो उसके सफल होने का सवाल ही नहीं उठता।

बाबासाहेब के विचारों पर बात करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि सबसे अधिक जरूरी है प्रतिबद्धता। जिन विचारों को लेकर हम चल रहे हैं, उनको जमीन पर उतारने की कोशिश होनी चाहिए। जदयू पूरे संकल्प के साथ प्रारंभ से अब तक यही काम करती आई है। हमारी पार्टी का चरित्र बाकी पार्टियों से अलग है। हमलोग बयानबाजी में नहीं, काम में विश्वास रखते हैं।

पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष बशिष्ठ नारायण सिंह ने अपने संबोधन में कहा कि डॉ. अंबेडकर ने इतिहास, समाज और समय की चुनौती को एक साथ स्वीकार किया था और ये काम केवल वही कर सकते थे। उनके विचारों को आज की तारीख में कोई जमीन पर उतारने का काम कर रहा है तो वो नीतीश कुमार हैं। उन्होंने कहा कि आज कुछ स्वार्थी तत्व विकास की राजनीति को पीछे धकेलने की कोशिश में लगे हैं, ऐसे में ये जरूरी है कि नीतीश कुमार के नेतृत्व में जो काम हुआ है, दलित-महादलित व कमजोर वर्ग के उत्थान से जुड़ी हमारी जितनी उपलब्धियां हैं, उन्हें जमीनी स्तर तक पहुंचाया जाए।

समारोह में उपस्थित अन्य लोगों में विधानपार्षद संजय गांधी, चन्द्रेश्वर चन्द्रवंशी, तन्वीर अख्तर, प्रदेश महासचिव डॉ. नवीन कुमार आर्य व अनिल कुमार, पूर्व विधायक अरुण मांझी, पूर्व विधायक मंजु कुमारी, राज्य अनुसूचित जाति आयोग के पूर्व अध्यक्ष विद्यानंद विकल, आदिवासी प्रकोष्ठ के अध्यक्ष झूलन गौड़, प्रशिक्षण प्रकोष्ठ के अध्यक्ष सुनील कुमार, मीडिया प्रकोष्ठ के अध्यक्ष डॉ. अमरदीप, प्रवक्ता डॉ. सुहेली मेहता, अरविन्द निषाद, संगठन सचिव चंदन सिंह, दलित प्रकोष्ठ के उपाध्यक्ष अजीत पासवान, विजय चौधरी एवं दलित प्रकोष्ठ की प्रवक्ता विनीता स्टेफी प्रमुख हैं। कार्यक्रम की अध्यक्षता जदयू महादलित प्रकोष्ठ के अध्यक्ष हुलेस मांझी ने की और संचालन महादलित प्रकोष्ठ के प्रवक्ता आनंद रजक ने किया।

मुख्यालय प्रभारी डॉ. नवीन आर्य एवं अनिल कुमार ने बताया कि पार्टी मुख्यालय को सभी जिलों से जयंती के अत्यंत सफल आयोजन की सूचना मिली है। पार्टी के सभी मंत्री, सांसद, विधायक, विधानपार्षद व प्रदेश स्तर के पदाधिकारी पार्टी द्वारा तय जिलों में मौजूद रहे। प्रखंडों व पंचायतों में भी जयंती आयोजन किया गया।