डोर स्टेप डिलीवरी का शुभारंभ

150
0
SHARE

सुपौल – खाद्य एवं उपभोक्ता संरक्षण विभाग के द्वारा कल्याणकारी संस्था एवं छात्रावास योजनान्तर्गत अनुसूचित जाति, जनजाति, पिछड़ा वर्ग, अति पिछड़ा वर्ग एवं अल्पसंख्यक वर्ग के छात्र-छात्रों हेतू अनुदानित खाद्यान्न वितरण का डोर स्टेप डिलीवरी के माध्यम से पूरे राज्य में आपूर्ति का शुभारंभ मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने किया।

वहीं सुपौल जिला मुख्यालय स्थित SFC गोदाम में इस योजना का शुभारंभ जिलाधिकारी बैद्यनाथ यादव ने झंडा दिखा कर किया। इस मौके पर DDC, DWO, SDM, जिला प्रबन्धक रबिन्द्र सिन्हा, समाज सेवी शह वार्ड आयुक्त विजय शंकर चौधरी गोदाम प्रबन्धक समरेंद्र सिंह सहित कई कर्मी मौजूद थे। कार्यक्रम की शुरुआत जिलाधिकारी को पुष्प गुच्छ देकर स्वागत किया गया, वहीं योजना के विषय में सदर SDM कयूम अंसारी ने बतलाया कि वैसे छात्र जो आर्थिक विपन्नताओ के कारण (ड्रॉप आउट) यानी बीच मे पढ़ाई न छोड़ दे ,उनके लिये सरकार इस योजना के तहत प्रति छात्र 15 किलो आनाज मुहैया करवा रही है, जिसमे 9 किलो चावल और 6 किलो गेहूं और 1000 रुपये राशि भी उपलभ्ध करवा रही है। इस योजना का लाभ उठाएं और अपनी पढ़ाई पूरी करे।

इस अवसर पर समाजसेवी बिजय संकर चौधरी ने कहा कि आर्थिक रूप से कमजोर बच्चे, अकिलियत और पिछड़े समुदाय में छिपी प्रतिभा को निखरने में यह योजना मिल का पत्थर साबित होगा। जबकि जिलाधिकारी ने अपने संबोधन में कहा कि कई बार छात्रावास जाने का मौका मिला है, वहाँ स्कूल कॉलेज जाने के वक्त कई छात्रों को तौलिए में लिपटा घूमता देखता है। कई छात्र को ब्रश करते देखता हूँ, बहुत दुख होता है कि सरकार आपके लिये छात्रावास, खाद्यान्न, राशि सभी उपलब्ध करवा रही है। सरकार आपके भविष्य के बेहतरी के लिऐ सजग है, आपको भी अपने और अपने देश के लिये सजग होना चाहिये। छात्रवास में आदर्श व्यवस्था बननी चाहिये, सबके लिए एक समान खाना, नाश्ता होना चाहिये। एक मेस वयवस्था होने से समय की बचत होगी,जो छात्र जीवन के लिए अनमोल होती है।