तालीम से ही अल्पसंख्यक समाज का विकास संभव : फ़ैज़ अकरम

284
0
SHARE

छात्र क्रेडिट कार्ड एवं मोमा स्कॉलरशिप का लाभ लेकर उच्च शिक्षा हासिल करें छात्र

पटना: तालीम से ही किसी भी समाज का विकास संभव है. अशिक्षा ही अल्पसंख्यक समाज के आर्थिक पिछड़ेपन की मुख्य वजह है. छात्र-छात्राओं को उच्च शिक्षा हासिल करने के लिये प्रेरित करना ज़रूरी है. उक्त बातें प्रसिद्ध कैरियर काउन्सलर एवं ‘तालीम’ एजुकेशनल कंसल्टेंसी के निदेशक मो. फ़ैज़ अकरम ने कहा.

फ़ैज़ ने बताया कि लम्बे समय से उनकी संस्था अकलियत समाज के छात्र-छात्राओं को उच्च शिक्षा हासिल करने में मदद करने का काम कर रही है. मैट्रिक एवं इंटरमीडिएट पास छात्र-छात्राओं के लिये कैरियर एवं कोर्स का चुनाव एक चुनौतीपूर्ण निर्णय होता है. सही मार्गदर्शन के अभाव में अधिकतर बार छात्र-छात्राएँ अरूचिपूर्ण कोर्स का चयन कर लेते हैं. साथ ही, सरकारी एवं गैर-सरकारी योजनाओं एवं स्कॉलरशिप का लाभ उठाने से भी वंचित रह जाते हैं.

उन्होंने बताया कि पटना के नयाटोला अंतर्गत भीखना पहाड़ी इलाक़े में रमना रोड कॉर्नर के सामने स्थित उनकी संस्था ‘तालीम’ अकलियत समाज के छात्र-छात्राओं को उच्च शिक्षा के लिये मार्गदर्शन देने के साथ-साथ सरकारी एवं गैर-सरकारी योजनाओं तथा स्कॉलरशिप की भी जानकारी उपलब्ध कराती है.

उन्होंने बताया कि राज्य सरकार के छात्र क्रेडिट कार्ड योजना का लाभ लेकर छात्र-छात्राएँ उच्च शिक्षा के लिये चार लाख तक का लोन सरकार की गारंटी पर प्राप्त कर सकते हैं. शिक्षा प्राप्त करने की पूरी अवधि के दौरान इस राशि पर किसी भी प्रकार का ब्याज नहीं लगता है. साधारणतः आर्थिक अभाव में ढेरों छात्र-छात्राएँ तकनीकी एवं प्रोफेशनल कोर्स में दाखिला लेने से वंचित रह जाते हैं. किंतु अब ऐसे छात्र एवं छात्राएँ राज्य सरकार की क्रेडिट कार्ड योजना का लाभ लेकर उच्च शिक्षा हासिल कर सकते हैं एवं अपने कैरियर को बुलंदी तक पहुँचा सकते हैं.

अनुभवी कैरियर काउन्सलर फ़ैज़ ने बताया कि राज्य सरकार द्वारा मोमा स्कॉलरशिप के तहत भी उच्च शिक्षा के लिये करीबन 30,000 रुपये की राशि प्रतिवर्ष देने का प्रावधान है. छात्र-छात्राएँ इस स्कॉलरशिप स्कीम का भी लाभ उठा सकते हैं. फ़ैज़ ने बताया कि उनकी संस्था ‘तालीम’ द्वारा शीघ्र ही राज्य के प्रत्येक जिले एवं प्रखंडों में शिक्षा-सलाहकार नियुक्त किये जाएँगे जो ट्रेनिंग हासिल करने के उपरांत संस्था द्वारा चलाये जा रहे ‘उच्च शिक्षा पाओ अभियान’ का संदेश घर-घर तक पहुँचाएँगे.