तेजस्वी यादव के नीतीश कुमार के नाम चिट्ठी के जवाब में जेडीयू मुख्य प्रवक्ता संजय सिंह की आम जनता के नाम खुला पत्र

200
0
SHARE

पटना – जेडीयू प्रवक्ता संजय सिंह ने आम जनता को संबोधित करते हुए नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी द्वारा मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को लिखे पत्र के जवाब में एक पत्र लिखा है। संजय ने लिखा है कि साथियों आपसे एक बात कहनी है ,बात यह है कि आजकल भेड़ की खाल भी भेड़िए घूम रहे हैं, आपको उनसे सावधान रहना है। आपको सावधान रहना है उनसे जो आपके सामने चिकनी चुपड़ी बातें तो जरूर करते हैं लेकिन अपने इतिहास को आपसे छुपाना चाहते हैं। आप उनका इतिहास जरुर पूछिएगा। आप यह जरुर पूछिएगा कि वह आज नेता कैसे बन गए ? जी हां साथियों, हम बात कर रहे हैं तेजस्वी यादव की। उस तेजस्वी यादव की हम बात कर रहे हैं जो 15 हजार करोड़ का मालिक है। महज 30 साल में तेजस्वी यादव ने कौन सा उद्योग लगा लिया ? कौन सा धंधा कर लिया ? कौन सी नौकरी कर ली ? साथियों, तेजस्वी यादव सामने आए तो यह जरूर सवाल पूछियेगा कि आखिर वह कौन सा फार्मूला जानते हैं जिससे वह इतनी जल्दी अमीर बन जाते हैं।

आगे उन्होंने लिखा है कि मुझे तेजस्वी यादव की राजनैतिक जीवन से कोई नफ़रत नहीं है। लेकिन मुझे तेजस्वी यादव के झूठ से नफरत है। जो वह आम लोगों के सामने बोलते हैं। कहावत है कि खाने के दांत अलग और दिखाने के दांत अलग होते हैं। वही तेजस्वी यादव कर रहे हैं उनके खाने के दांत अलग हैं और दिखाने वाले दांत अलग हैं। उनसे जरुर पूछिएगा कि उन्होंने 700 करोड़ का मॉल कैसे बनाने की सोची ? इतने भूखंडों के मालिक वह कैसे बन गए ? कैसे इतनी कंपनियां उन्होंने खोल ली ? 

जेडीयू प्रवक्ता ने लिखा है कि तेजस्वी यादव को आपने मौक़ा दिया था, 20 महीने वो बिहार के उपमुख्यमंत्री रहे, चाहते तो अपने पिता के कर्मो को धोते, लेकिन उन्होंने क्या किया ? फिर से अपने पिता के बताए रास्तो पर चलने लगे, घोटाला करने लगे, मॉल बनाने लगे, जमीन लिखवाने लगे, मिट्टी खाने लगे। क्या ये फिर बिहार को रसातल में नहीं ले जा रहे थे ? क्या ये फिर से बिहार को बदनाम करने में नहीं लगे थे ? ये फिर से बिहार की जनता को ढिबरी युग में ले जाना चाह रहे थे। अब यदि फिर से ये लोग सत्ता में आये, ये अपनी करतूत से बाज नहीं आएंगे, और बिहार को अँधेरे में धकेल देंगे। सावधान! रहियेगा इनसे।

संजय ने लालू-राबड़ी पर निशाना साधते हुए लिखा है कि आप उनसे जरुर पूछियेगा कि लालू यादव और राबड़ी देवी के राज में 15 साल के अंदर जो 12848 दुष्कर्म हुए थे उसका जिम्मेदार कौन है ? क्यों लालू-राबड़ी के राज में शाम 5:00 बजे के बाद बहू-बेटियां घर से बाहर नहीं निकलती थी? बहू बेटियों की तो बात छोड़िए उस जंगलराज में यदि किसी का बेटा शाम 7:00 बजे के बाद घर नहीं लौटता था तो उसके अभिभावकों को चिंता हो जाती थी।