त्रिकोणीय प्यार पर फिल्माए गए गुप्त मूवी का रिमेक दिखा सीतामढ़ी में

852
0
SHARE

आदित्यानंद आर्य की रिपोर्ट

सीतामढ़ी: 1997 में हिंदी फिल्म गुप्त में फिल्माए गए कथाचित्र को विगत दिन बिहार के सीतामढ़ी जिले में चरितार्थ होते दिखा है। जिसमे त्रिकोणीय प्यार की एक कहानी में एक प्रेमिका द्वारा अपने प्रेमी को खुद से अलग होता देख अपनी सहेली पर जानलेवा हमला किया गया है। घटना सीतामढ़ी जिले के डुमरा थाना क्षेत्र की है। जहां एक प्रेमिका द्वारा अपने प्रेमी को अपनी सहेली से छीनता देख उसपर जानलेवा हमला किया गया है। वैसे तो प्रेम प्रसंग का मामला सीतामढ़ी में अनेको बार आया, जिसमे ज्यादा तर हत्या का मामला देखने को मिला था।

लेकिन ऐसा मामला पहली बार आया है वो भी त्रिकोणात्मक प्यार का जिसमें एक ही लड़का से दोनो सहेलिया प्यार करती है। वहीं एक लड़की अपने प्यार को पाने के लिए कई हदो को पार करते हुए एक ऐसी घटना को अंजाम देती है। जिससे किसी की भी रूह कांप उठे। लेकिन घटना को अंजाम देने के दौरान उसने ।थोडी देर के लिए ये भी नहीं सोचा की इस घटना को अंजाम देने के बाद उसका क्या होगा। क्या उसका प्यार उसे मिल जाएगा या फिर उसे भागना पड़ेगा दर-दर भटने को।WhatsApp Image 2017-11-19 at 2.03.44 PM

बीते दिन सीतामढ़ी के डुमरा थाना क्षेत्र के रिखौली गांव में धारदार हथियार से हमला कर 17 वर्षीया किशोरी को जख्मी कर दिया गया। इस दौरान छात्रा के होठ, गर्दन व पीठ पर जगह-जगह चाकू से प्रहार कर लहूलुहान किया गया। किशोरी के हाथ को पूरी तरह काटने का प्रयास भी बदमाशों ने किया। उसे मरा हुआ समझ कर रिखौली गांव स्थित प्राथमिक विद्यालय के पास फेंक दिया गया। स्थानीय लोगों की सूचना पर पहुंचे किशोरी के परिजनों ने उसे इलाज के लिए सीतामढ़ी शहर के निजी अस्पताल में भर्ती कराया है। सूचना के बाद डुमरा थाना व नगर थाने की पुलिस पहुंची व परिजनों से पूछताछ की। वही जिंदगी और मौत के बीच जूझ रही किशोरी ने पुलिस कोबताया है कि उसकी सहेली ने उस पर जानलेवा हमला किया है। पुलिस को दिये बयान के अनुसार, हमलावर युवती पुपरी के एक युवक से प्रेम करती है।

इस दौरान धीरे-धीरे वह युवक किशोरी की ओर आकर्षित होकर उससे प्रेम करने लगा। यह भनक लगने के बाद हमलावर युवती ने योजना बना कर किशोरी को रिखौली गांव स्थित अपना घर दिखाने के बहाने साथ ले गयी। जहां अपने घर से कुछ दूर काफी सुनसान जगह बांसवारी में ले गयी थी, जहां उसने हसुआ से ताबड़तोड़ प्रहार करना शुरू कर दिया। किशोरी के चेहरे, गरदन व हाथ के अलावा कुल 60 स्थान को हसुआ से रेत दिया।

इसके बाद उसे मरा हुआ समझ कर वह भाग गयी। बाद में उसके कराहने की आवाज सुन कर ग्रामीणों की सूचना पर किशोरी के परिजनों ने पहुंच कर उसे शहर स्थित निजी अस्पताल में भरती कराया, जहां तीन सदस्यीय चिकित्सकों की टीम ने छह घंटा ऑपरेशन करने के दौरान किशोरी के शरीर पर तकरीबन पांच सौ से अधिक टांके लगा उसके जान को बचाया है। इधर घटना के खुलासे के बाद डुमरा थानाध्यक्ष विकास कुमार से जब मीडिया कर्मियों ने जानकारी लेने का प्रयास किया तो उनके द्वारा उसे हस कर टाल दिया गया। घटना के तीन दिन बीत जाने के बावजूद अब तक पुलिस के हाथ कोई भी सफलता नहीं लगी है। इधर किशोरी के बयान से यह त्रिकोणात्मक प्रेम का मामला सामने आया है।