थानाध्यक्ष विजय चंद्र शर्मा की रात्रि गश्ती के दौरान मौत

1827
0
SHARE

भागलपुर-थानाध्यक्ष विजय चंद्र शर्मा की रात्रि गश्ती के दौरान स्कॉर्पियो दुर्घटना में मौत के बाद पूरा पुलिस महकमा सदमे में है। तिलकामांझी थाना में तैनात युवा और जाबांज पुलिस ऑफिसर विजय चंद्र शर्मा उर्फ चुलबुल पांडे की सड़क दुर्घटना में मृत्यु हो गई है। सूत्रों के मुताबिक घटना हवाई अड्डा के समीप हुई है। घटना कैसे हुई है इसका खुलासा अभी नहीं हो पाया है। पोस्टमार्टम के बाद दिवंगत थानाध्यक्ष को पुलिस लाईन में सलामी दी गई। सड़क हादसे में तिलकामांझी थानाध्यक्ष की मौत के बाद कई सवाल खड़े हो गए हैं। इतनी रात में अकेले गस्ती पर जाना भी सवालों के घेरे में है। वरिष्ठ पुलिस अधिकारीयों ने बताया कि जल्द ही सब कुछ साफ हो जाएगा।

2009 बैच के एसआई विजयचंद शर्मा की मौत बीती रात सड़क दुर्घटना में बताई जा रही है। वे अपनी स्कार्पियो स्वयं ड्राइव कर रहे थे। आखिर आधी रात को हवाई अड्डा के रनवे पर क्यों गये थे थानाध्यक्ष ? इस दुखद घटना के बाबत एसएसपी मनोज कुमार ने बताया कि उनकी गाड़ी के टायर फटने से दुर्घटना हुई है। रात में करीब साढ़े 12:30 बजे थानाध्यक्ष हवाई अड्डे की सुरक्षा का हाल जानने गए थे। उसी दौरान आगे के दोनों चक्के ब्लास्ट कर गए और गाड़ी पलट गई जिसमें वे दब गए। थाना के दूसरे पुलिसकर्मियों ने बताया कि वे रोज रात में थाना से घर जाने के दौरान हवाई अड्डे का एक-दो चक्कर लगा लेते थे। पिछले कुछ दिनों से हवाई अड्डे के आसपास आपराधिक घटनाएं बढ़ गई थीं।

बीती रात थाना से विजय ने अपनी पत्नी को फोन पर यह कहकर निकले कि मैं आ रहा हूँ खाना गर्म करके रखना। फिर वे हवाई अड्डा की ओर चले गए। वे जीरोमाइल के पास एलआईसी कॉलोनी में रहते थे। जब वे एक बजे तक घर नहीं पहुंचे तो पत्नी ने उनके मोबाइल पर फोन किया। इस बीच किसी काम से एसएसपी ने भी उन्हें मैसेज किया। जब जवाब नहीं आया तो एसएसपी ने रिंग किया। फोन रीसिव नहीं हुआ तो एसएसपी ने गश्ती दल को सूचना दी। फिर खोजबीन शुरू हुई तो करीब दो बजे हवाई अड्डे के रनवे पर गाड़ी से दबी उनका शव मिला, फिर मौके पर आईजी सुशील मानसिंह खोपड़े,एसएसपी मनोज कुमार समेत सारे पुलिस अधिकारी पहुंचे। गाड़ी से शव बाहर निकाला गया।

इस दुर्घटना को संदेहास्पद भी माना जा रहा है। इस बाबत आईजी ने कहा है कि सभी बिन्दुओं पर जांच होगी। पुलिस टीम ने इसकी छानबीन भी शुरू कर दी है। दिन में करीब दस बजे पुलिस अफसरों ने हवाई अड्डे पर जाकर घटना स्थल को बारीकी से देखा। लोगों का कहना है कि इतनी रात को हवाई अड्डे की ओर क्यों गए थे थानाध्यक्ष ? वह भी अकेले गाड़ी चलाकर ? पुलिसकर्मियों का कहना है कि अक्सर वे तेज रफ़्तार से गाड़ी चलाते थे।

भागलपुर में तिलकामांझी थानाध्यक्ष विजय चंद्र शर्मा उर्फ़ चुलबुल पाण्डे के नाम से प्रसिद्ध थे। पुलिस लाइन में दरोगा विजय के शव को भागलपुर आईजी शुशील खोपड़े ,एसएसपी एवं भागलपुर के तमाम थानाध्यक्षों ने सलामी दी। वहीं भागलपुर के आईजी ने कहा की जब से विजय चंद्र शर्मा के हांथो में तिलकामांझी थाना की कमान सौंपी गई थी, तब तिलकामांझी थाना क्षेत्र में अपराध काफी कम हो गया था। हमने एक बेहद होनहार अफसर खो दिया है।