थावे विद्यापीठ ने संगीतकार धनंजय मिश्रा को दी पी एच डी की मानद उपाधि

329
0
SHARE

मुंबई- संगीतकार धनंजय मिश्रा को बिहार के गोपालगंज स्थित थावे विद्यापीठ ने भोजपुरी भाषा को बढ़ावा देने और कला संस्कृति के माध्यम से समाज में भाईचारा कायम करने के सशक्‍त प्रयास के लिए पी एच डी की मानद उपाधि से सम्‍मानित किया। धनंजय मिश्रा बमुखी प्रतिभा के धनी हैं और वे संगीत के साथ – साथ रचनात्मक कार्यो में भी गहरी रूचि रखते हैं। वे भोजपुरी फिल्‍मों में प्रतिष्ठित संगीताकार है और कई सुपरहिट गानों में संगीत दे चुके हैं। उनकी इन्‍हीं खूबियों को देखते हुए थावे विद्यापीठ के कुलपति, कुलसचिव एवं प्रतिकुलपति द्वारा पी एच डी की मानद उपाधि से सम्‍मानित किया गया।

इस पर धनंजय मिश्रा ने खुशी जाहिर करते हुए कहा कि 19 फरवरी की शाम मेरे जीवन की यादगार शाम थी। मुझे थावे विद्यापीठ के कुलपति, कुलसचिव एवं प्रतिकुलपति के हाथों PHD की मानद उपाधि दी गयी। मैं अभिभूत हूं और मैं आभार व्यक्त करता हूं थावे विद्यापीठ के कुलपति कुलसचिव, थावे विद्यापीठ के इस समिति के तमाम सदस्यों का और डॉ अरविंद आनंद (प्रतिकुलपति ) का, जिन्होंने मुझे इस योग्य समझा। उन्‍होंने कहा कि साथ ही मैं विशिष्ट आभार मेरे 13 करोड़ भोजपुरी भाषा भाषी जनता जनार्दन को देना चाहूंगा, जिनकी वजह से मैं यहां हूं। मेरी कामयाबी में उनके बिना संभव न थी।

धनंजय मिश्रा ने अपने फैंस को संबोधित करते हुए कहा कि आप सभी के प्यार स्नेह व आशीर्वाद के बगैर मैं शून्य हूं। जीवन पर्यंत आपके स्नेह और आशीर्वाद का आकांक्षी हूं। ये मानद उपाधि मेरे माता-पिता, मेरा परिवार और मेरे सभी शुभचिंतको को समर्पित करता हूं। बता दें कि फिल्‍मों में अपनी संगीत का जादू बिखेर चुके धनंजय मिश्रा इन दिनों भोजपुरी की अब तक की सबसे महंगी फिल्म ‘दबंग सरकार’ में भी अपना संगीत दे रहे हैं, जिसमें मुख्‍य भूमिका भोजपुरिया सुपर स्‍टार खेसारीलाल यादव निभा रहे हैं। फिल्म की शूटिंग लखनऊ में शुरू हो गई है।

योगेश राज मिश्रा निर्देशित इस फिल्‍म का निर्माण सी व्यू फिल्म्स और क्रिएटर्स लैब के बैनर तले हो रहा है। इसके निर्माता हैं- दीपक कुमार और राहुल वोहरा हैं। को-प्रोड्यूसर दिनेश तिवारी और प्रचारक संजय भूषण पटियाला व आनंद कृष्‍णा है। लेखक मनोज पांडेय, संगीतकार धनंजय मिश्रा हैं। फिल्‍म के कोरियोग्राफर कानू मुखर्जी और अरूण राज हैं और डीओपी अमिताभ चंद्रा और रविंद्र नाथ गुरू का है।