दरिंदे पति ने पत्नी को गला में फंदा लगाया, लोगों ने बचाई जान

342
0
SHARE

मुकेश कुमार सिंह

सहरसा – दरिंदे पति ने साथ जीने व मरने की कसमें खाई थी वहीं पति कल देर शाम चाकू की नोंक पर पत्नी को उठा लिया। तत्पश्चात सुनसान इलाके में ले जाकर विवाहिता को फांसी लगाकर जान मारने की कोशिश की। लेकिन पत्नी चिल्लाने लगी तो लोगों की आहट से पति तथा एक अन्य व्यक्ति फरार हो गया। स्थानीय लोगों ने उन्हें फंदा से मुक्त कराकर सदर अस्पताल में भर्ती कराया।

घटना के संबंध में बताया जाता है कि सौर बाजार थाना क्षेत्र के बैजनाथपुर ओपी अन्तर्गत बराही गांव निवासी सुखदेव दास अपनी पुत्री गीता कुमारी की शादी सात जुलाई 2014 को बरे ही धूमधाम से महिषी गांव निवासी शितल शर्मा के पुत्र मुन्ना कुमार के साथ किया था। शादी के कुछ ही दिनों बाद ही पति दुबई में रहने लगा। इधर विवाहिता अपने मायके में ही रहने लगी। जब मुन्ना दुबई से लौटा तब गीता पर जुर्म ढाहने लगा।

इधर सोमवार को गीता जब स्नातकोत्तर की परिक्षा देने सहरसा आई तो अपनी मौसी के यहां गांधी पथ स्थित किराया के मकान से जबरन एक बाईक पर सवार होकर अपने एक दोस्त के साथ पहुंचे और चाकू के नोंक पर उठा लिया और मूंह पर चादर डालकर शहर के नरियार से पश्चिम सुनसान इलाके में लेजाकर एक वृक्ष में फंदा लगाकर जान मारने की कोशिश करने लगा। अचानक चिल्लाने की आवाज लोगों को सुनाई परी तो लोगों ने उन्हें मुक्त कराकर सदर अस्पताल में भर्ती कराया। जहां चिकित्सकों ने उसकी ईलाज कर रहा है। घटना की सूचना पर पहुंची पुलिस ने मामले की जांच कर अग्रतर कारवाई में जुटी हुई है।