दिल्ली की आग में सहरसा के नरियार गाँव में मातम

254
0
SHARE

मुकेश कुमार सिंह

सहरसा – दिल्ली के फिलिमिस्तान इलाके के अग्निकांड में सहरसा सदर थाना क्षेत्र के नरियार गाँव में 8 लोगों के मरने की खबर आ रही है। हालांकि अभी आधिकारिक पुष्टि नहीं हुई है लेकिन पीड़ित परिजन और ग्रामीण सिकंदर खान के मुताबिक 8 लोगों की मौत हो चुकी है। जिसमें नरियार के ही मोहम्मद राशिद, मोहम्मद संजर, मोहम्मद फैशल, मोहम्मद संजीम, मोहम्मद अफजल, मोहम्मद फरीद और मोहम्मद ग्यास है।

दरअसल नरियार गाँव के ही मोहम्मद जुबैर ने फिल्मिस्तान इलाके में ही जैकेट की फैक्ट्री खोल रखा था। जिसकी वजह से गाँव के ज्यादातर लोगों को ये उस फैक्ट्री में काम पर लगाए हुए था। आज जैसे ही फैक्ट्री में आग की खबर गाँव वालों को लगी तो यहाँ कोहराम मच गया। लोग अपने रिश्तेदारों और बच्चों से फोन पर संपर्क करना चाहा लेकिन किसी से किसी को बात नहीं हो पाई। यहाँ तक फैक्ट्री मालिक जुबैर से भी ग्रामीणों का संपर्क नहीं हो पाया।

फैक्ट्री मालिक जुबेर के नरियार स्थित घर में भी ग्रामीणों को किसी से मुलाकात नहीं हो पाई। लिहाजा कई पीड़ित परिजन गाँव से दिल्ली को निकल पड़े। अभी रात के वक़्त ग्रामीणों को 8 लोगों के मौत की खबर मिली है। मृतक ग्यास की नानी रशीदा कहती है मेरे घर के दो बच्चे मुबारक और ग्यास उस जैकेट फैक्ट्री में काम करते थे। आग की चपेट में आने के बाद मेरा एक बच्चा मुबारक खिड़की से कूद पड़ा जिसमे उसका पैर फ्रेक्चर हो गया है जिसका इलाज वहां चल रहा है जबकि एक बच्चे ग्यास की जान चली गयी और अब वो इस दुनिया में नहीं है।

जबकि मृतक फैसल की माँ का कल शाम बेटे से बाते हुई थी। उसने कहा था टिकट बना हुआ है, लेकिन जुबैर भाई (फैक्ट्री मालिक )आने नहीं दे रहा है। मृतक फैसल के मामा सोहेल ने कहा कि फैसल की मौत हो गयी है। फैसल पाँच छह महीने से जैकेट फैक्ट्री में काम करता था। जबकि मृतक संजीमुद्दीन की भांजी मुसरत जहाँ ने कहा कि मेरे मामा जैकेट फैक्ट्री में कटिंग मास्टर थे। मां मेरे अब इस दुनिया में नहीं रहे ,आठ दस सालों से उस फैक्ट्री में काम करते थे। सुबह सात बजे फैक्ट्री में आग लगने की सुचना मिली। फैक्ट्री मालिक पहले बोले सब ठीक है उसके बाद मोबाइल बंद कर लिया।

अभी सुचना मिली की मामा अब नहीं रहे। ग्रामीण सिकंदर खान कहते हैं 7 लोगों की मौत की खबर मिली है। सभी नरियार के ही थे, मेरे गाँव के ही फैक्ट्री मालिक है जो दिल्ली में फैक्ट्री चलाते है। इस वजह से गाँव के ही बहुत सारे लोग उस फैक्ट्री में काम करते हैं। लेकिन सीजन ऑफ होने की वजह से कुछ लोग वहां से आ गए थे। दस बारह लोग वहां रुके हुए थे। जिनमें से 7 लोगों के मौत की खबर शाम में मिली है। फिलवक्त पीड़ित परिजनों के घर मातम का माहौल है।

बहरहाल सहरसा जिला प्रशासन ने एक प्रतिनिधि श्रमप्रवर्तन पदाधिकारी रितेश कुमार को वैशाली एक्सप्रेस से दिल्ली के लिए रवाना किया है लिस्ट के साथ।