दो समुदायों में हुई जमकर मारपीट एवं पत्थरबाजी

446
0
SHARE

भागलपुर- स्वास्थ्य मंत्री अश्विनी कुमार चौबे के बेटे के नेतृत्व में कल भागलपुर के नाथ नगर क्षेत्र में एक भव्य जुलूस निकाला गया। यह विक्रम संवंत जुलूस लगभग 4:00 बजे करीब निकाला गया लेकिन अररिया के मामले को देखते हुए मुस्लिम इलाके में काफी तनाव महसूस किया जा सकता था। जुलूस में कुछ ऐसे शब्दों का प्रयोग हुआ जिससे जो दोनों समुदाय के लोग आपस में भिड़ गए और वह एक सांप्रदायिक दंगे का रूप ले लिया। लगभग एक घंटा तक पथरबाजी होती रही कुछ लोगों ने दो वाहनों को क्षतिग्रस्त भी कर दिया और इस घटना में एक सुरक्षाकर्मी दो व्यक्ति भी घायल हो गए हैं। उनको मायागंज अस्पताल पहुंचाया गया। वहां की स्थिति काफी तनावपूर्ण होती चली गई जानकारी के अनुसार विक्रम संवंत जुलूस के दौरान मेदनीनगर चौक पर एक पक्ष के लोगों ने गाना बजाने और चौक पर जुलूस ठहराने से मना किया। इसको लेकर जुलूस में शामिल लोग और स्थानीय लोगों में टकराव हुआ और फिर एक-दूसरे पर पथराव करने लगे। इस दौरान जमकर बमबाजी भी की गई। इस दौरान एक बाइक में आग लगा दी गई। दुकानों में तोड़फोड भी की गई।

बताया जा रहा है कि भिडंत के दौरान दोनों तरफ से करीब 50 राउंड फायरिंग भी की गई। पथराव में आधा दर्जन सिपाही और 2 एएसआई समेत कई लोग घायल हो गए है। सूचना मिलने पर मौके पर पहुंचे डीएम, एसएसपी, डीएसपी लॉ एंड ऑडर समेत भारी संख्या में पुलिस बल पहुंचे। सभी ने दोनों पक्षों को काफी देर तक समझाने की कोशिश की लेकिन दोनों पक्ष मानने को तैयार नहीं हुए खबर लिए जाने तक दोनों पक्षों में विवाद जारी था, नाथनगर थाना में भागलपुर के डीएम, भागलपुर जोन के आईजी, डीआईजी, एसएसपी समेत कई पुलिस अधिकारी इस विवाद को शांत करने के उपाय के लिए मीटिंग कर रहे थे।

भागलपुर के चम्पानगर कल जहाँ हालात बिगड़ गए थे वहीँ घटना के चंद घंटो के बाद ही प्रशासन ने स्थिति पर काबू पा लिया है हालाँकि अभी पूरी तरह से काबू नहीं हो पाई है लेकिन कल के मुकाबले आज स्थिति कुछ हद तक सामान्य लग रही है। जिले के तमाम आला अधिकारी मौके पर कैम्प कर रहे है। डीएम, आईजी, डीआईजी, एसएसपी समेत तमाम अधिकारी नाथनगर में कैम्प कर रहे है। हालाँकि अभी तक किसी की भी गिरफ़्तारी नहीं हुई है।