नई पीढ़ी की पसंद के हिसाब से होगा खादी का विकास: मुख्यमंत्री

236
0
SHARE

पटना: राष्ट्रीय चरखा दिवस के मौके पर बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने पटना के अधिवेशन भवन में आयोजित समारोह में कहा कि बिहार की खादी की देश में अलग पहचान बनेगी। बिहार सरकार ऐतिहासिक चम्पारण सत्याग्रह के 100वें पर खादी को बढ़ावा देने के लिये प्रयत्नशील है। खादी से जुड़े संस्थानों को अपना मनोबल ऊंचा रखना चाहिये क्योंकि खादी के प्रति लोगों का आकर्षण खत्म नहीं हुआ है।

नीतीश कुमार ने 17 करोड़ रूपये की लागत से बननेवाले खादी ग्रामोद्योग बोर्ड भवन के साथ ही सात करोड़ पचास लाख रूपये के लागत से होनेवाले खादी शोरूम के जीर्णोद्धार का शिलान्यास किया।

इस मौके पर बिहार के खादी की ब्रांडिंग एवं मार्केटिंग को ध्यान में रखते हुए मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने बार कोड और लोगों का लोकार्पण भी किया ताकि बिहार के खादी उत्पाद देश और दुनिया में अपनी पहचान बना सके।

गौरतलब है की राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के ग्राम स्वराज्य की कल्पना को साकार करने के लिए नितीश सरकार ने खादी पुनरुद्धार योजना प्रारंभ की है जिसके तहत 1000 मल्टी काउंट त्रिपुरारी मॉडल चरखा का वितरण खादी संस्थाओं के बीच किया जाना है। जिसकी शुरुआत सीएम नितीश कुमार ने राष्ट्रीय चरखा दिवस समारोह में मौजूद 5 कतिनों के बीच वितरित करके किया।

गांधी मैदान के पूर्वी छोर पर खादी ग्रामोद्योग बोर्ड के बननेवाले नए भवन में खादी वस्त्रों का डिज़ाइन, डेवलपमेंट, मार्केटिंग, कैपेसिटी बिल्डिंग के साथ ही केंद्रीय मार्केटिंग का कार्य होगा। समारोह को सम्बोधित करते हुए सीएम नितीश कुमार ने खादी से जुड़ी संस्थाओं को मनोबल ऊंचा करने की नसीहत देते हुए कहा की खादी और खादी के काम में लगे लोगों को बिहार सरकार हर संभव सहायता करेगी।