नए माेटर वाहन अधिनियम के तहत परिवहन विभाग की अबतक की बड़ी कार्रवाई

84
0
SHARE

भागलपुर – एक सितंबर से लागू नए माेटर वाहन अधिनियम के तहत परिवहन विभाग ने शनिवार काे शहर में अब तक का सबसे बड़ा फाइन इंटर के एक छात्र काे किया। जीराेमाइल के चाणक्य विहार काॅलाेनी के रहने वाले व एक काेचिंग संस्थान में पढ़ाई करने वाले 15 साल के किशाेर अपने दाे दाेस्ताें के साथ अपनी नई स्कूटी पर जा रहा था। उसने हेलमेट भी नहीं पहना था। दाेपहर 12 बजे कचहरी चाैक पर एमवीआई विनय शंकर तिवारी ने चेकिंग के दाैरान उसे पकड़ लिया।

पकड़े जाते ही उसने तत्काल अपने दाेस्त के हाथ में रखा हेलमेट पहन लिया। उससे जब फाइन जमा करने काे कहा गया ताे वह उलझने लगा। उसके पास गाड़ी के कागजात भी नहीं थे। उसे कुल 42 हजार रुपए फाइन जमा करने काे कहा गया। स्कूटी इस साल 28 अगस्त काे खरीदी गई है। उसकी कीमत 56 हजार 127 रुपये है। फाइन किशाेर के अभिभावक से वसूला जाएगा।

अभिभावक रजिस्ट्रेशन का पेपर देंगे ताे 5 हजार कम हाे जाएगा जुर्माना
एमवीआई ने नाबालिग काे फाइन जमा करने काे कहा ताे उसने कहा कि उसके पिता फाैज में हैं। वे हैदराबाद में रहते हैं। वह यहां अकेले रहता है। विभाग ने उसकी स्कूटी व कागजात जब्त कर लिये हैं।

एमवीआई ने बताया कि छात्र के आईकार्ड की जांच में पता चला कि उसकी उम्र 15 साल है। माेटर वाहन अधिनियम के छह सेक्शन में उसे 42 हजार रुपए फाइन किया गया है। उसके अभिभावक गाड़ी का रजिस्ट्रेशन का पेपर देंगे ताे पांच हजार फाइन कम हाे जाएगा। छात्र ने फाेन पर पिता काे पूरे मामले की जानकारी दी है। बाद में उसके फूफा स्कूटी छुड़ाने पहुंचे, लेकिन फाइन देखकर हैरान रह गए।

जानिये, किस कारण कितना हुआफाइन

नाबालिग हाेने के कारण 25000
दूसरे की गाड़ी चलाने पर 5000
ड्राइविंग लाइसेंस नहीं रहने पर 5000
रजिस्ट्रेशन नहीं रहने पर 5000
हेलमेट नहीं पहनने पर 1000
ट्रिपल लाेडिंग के कारण 1000

किशोर को 25 वर्ष की उम्र तक नहीं मिलेगा डीएल

नए नियम में नाबालिग के गाड़ी चलाने पर 25 हजार रुपया फाइन और 3 साल की सजा का प्रावधान है। वाहन का रजिस्ट्रेशन रद्द हाे सकता है। गाड़ी के मालिक व अभिभावक दाेषी माने जाएंगे। नाबालिग काे 25 साल की उम्र तक गाड़ी चलाने का लाइसेंस नहीं दिया जाएगा।