नक्सलियों के लाल इलाके में की जा रही मौत की खेती

981
0
SHARE

गया: बिहार के गया जिले के बाराचट्टी प्रखंड के जयगीर और सोमिया गंव के पहाड़ी के नीचे 8 एकड़ जमीन में लगी अफीम की खेती को नष्ट किया गया। गुप्त सूचना के आधार पर एसएसबी और गया पुलिस की संयुक्त कार्रवाई में 8 एकड़ जमीन पर लगी अफीम के फसल को नष्ट किया गया। जिसकी कीमत 50 लाख रुपये से भी अधिक बतायी जा रही है।

एसएसबी के सहायक कमांडेंट दीपक तोमर ने बताया कि अफीम की फसल लगभग तैयार ही हो चुकी थी इसे काट कर इसकी सप्लाई की जानी थी। अफीम की खेती में लगे जमीन मालिक की पहचान नही जा सकी है। फिलहाल जांच की जा रही है।

इन इलाकों में नक्सलियो का आतंक की सरकार चलती है जहां नक्सलियो के इशारे पर कहे या नक्सलियो के भय से काफी बड़े भूखण्ड पर अफीम की खेती की जाती रही है और समय-समय पुलिस को मिली सुचना के बाद यह नष्ट की जाती है।

ऐसा पिछले कई सालों से चल रहा है लेकिन अफीम की खेती भी हो रही है और नष्ट भी। ज्ञात हो की नक्सली संगठन अपनी आर्थिक स्थिति को मजबूत करने के लिये यहां के सीधे साधे ग्रामीणों को दिग्भर्मित कर अपने मंसूबे में कामयाब हो रहे है। चुकी जीटी रोड के किनारे का यह गंव में अफीम की खेती करने का यह भी उनको लाभ मिलता है कि इसे ट्रांसपोर्टिंग करने में और भी आसान हो जाता है।