‘नरेंद्र निकेतन’ को ध्वस्त करना बेहद अफसोसजनक व निंदनीय -फ्रेंड्स ऑफ आनंद

81
0
SHARE

पटना – आज ‘फ्रेंड्स ऑफ आनंद’ ने पाटलिपुत्रा स्थित पूर्व सांसद आनंद मोहन के निवास पर बैठक की जिसमें पिछले 14 फरवरी 2020 को दिल्ली के आई.टी.ओ. स्थित पूर्व प्रधानमंत्री चंद्रशेखर द्वारा स्थापित ‘नरेंद्र निकेतन’ को जिस तुगलकी अंदाज में अचानक बुलडोजर चलाकर ध्वस्त किया गया, जो बेहद अफसोस जनक और निंदनीय है। इसकी जानकारी फ्रेंड्स ऑफ आनंद के प्रांतीय प्रवक्ता पवन राठौर ने प्रेस विज्ञप्ति जारी कर बताया।

बैठक को संबोधित करते हुए फ्रेंड्स ऑफ आनंद के केंद्रीय अध्यक्ष चेतन आनंद ने कहा कि ‘नरेंद्र निकेतन’ समाजवादी पुरोधा आचार्य नरेंद्र देव और समाजवादी नेता स्वर्गीय चंद्रशेखर जी का ‘ वैचारिक केंद्रस्थल’ था। जिस पर बुलडोजर उन्हें चाहने वाले लाखों युवाओं के दिलों पर बुलडोजर चलाने जैसा है। यह समाजवादी और धर्मनिरपेक्ष विचारधारा पर बुलडोजर है। जिसे ‘चंद्रशेखर के लोग’ कतई बर्दाश्त नहीं करेंगे और देश भर में इसके खिलाफ प्रतिकार करेंगे।

बैठक के बाद चेतन के नेतृत्व में कार्यकर्ताओं ने पाटलिपुत्रा गोलंबर तक प्रतिकार मार्च व पुतला दहन कर आक्रोश व्यक्त किया। बैठक और प्रतिकार मार्च में चेतन आनन्द के अलावा उमेश सिंह, अरुण कुमार, राजेश सिंह, अभिषेक कुमार सिंह, राजेश बबलू, मनोज सिंह, श्रीकांत सीकरे, आर. के.सिंह, ऋतुराज, अजय कुमार, घनश्याम सिंह, नितेश कछवाहा आदि मुख्य रूप से शामिल थे!