नागपंचमी में बाजार हुआ गुलजार

198
0
SHARE

लखीसराय – नागपंचमी पर्व को लेकर स्थानीय हाजी मंडी के हाट बाजार में सुबह से ही पूरी तरह गुलजार रहा। जैसे-जैसे दिन चढ़ता गया लोग अपने हैसियत के मुताबिक खरीददारी करते नजर आए। रविवार एवं सोमवार को पर्व होने की वजह से बाजार में कहीं भी तिल रखने का जगह नहीं बच रहा था। आम, कटहल से पूरा बाजार पटा हुआ था।

इस साल महंगाई ने नागपंचमी पर्व के मजा को किरकिरा कर दिया है। पर्व में उपयोग होने वाले चीजों के दाम आसमान छू रहे हैं। साधारण परिवार के लोग इस बार बेहतर लजीज व्यंजन का स्वाद नहीं चख पायेंगे क्योंकि चना, चना दाल , आम, कटहल के आलावे सरसों तेल, आटा, चीनी, प्याज, आलू समेत सभी हरी सब्जियों व फलों की कीमत बढ़ी हुई है। मिडिल क्लास फैमली को भी महंगाई ने कमर तोड़ रखा है। जानकारों का कहना है कि आम दिनों की अपेक्षा नागपंचमी पर्व में किसी भी परिवार का खर्च तीन गुना बढ़ जाता है।

हाजी मंडी के हाट बाजार में चहल-पहल बढ़ गया है। नागपंचमी को लेकर शनिवार को काफी चहल पहल देखी गई। जिले के सभी हाट बाजारों मे आम एवं कटहल के फलों से पट गया है। नागपंचमी के मौके पर आम और कटहल खाने की परंपरा को लेकर लोग इसकी खरीददारी बड़े पैमाने पर कर रहे हैं। इधर नागपंचमी के मौके पर अपने-अपने घरों में धान का लावा चढ़ाने की परंपरा को लेकर बाजार में इसकी भी बिक्री काफी तेज है।

लखीसराय शहर के आलावे ग्रामीण क्षेत्रों में भी तैयारी पूरी है। प्रखंड मुख्यालय स्थित सभी क्षेत्रीय बाजार समेत चानन, हलसी, रामगढ़ चौक, बड़हिया, सूर्यगढ़ा, मेदनीचौकी, माणिकपुर, अलीनगर, सैदपुरा आदि जगहों पर ग्रामीणों की भीड़ देखने को मिल रही है। इस वर्ष दो दिनों तक नागपंचमी मनाया जा रहा है रविवार और सोमवार को होने वाले नागपंचमी पर्व को लेकर ग्रामीणों ने तैयारी पूरी कर ली है। आम और कटहल खरीद करने वालों की भीड़ शहीद-द्वार, महावीर, थाना, बस स्टैंड आदि जगहों पर देखने को मिल रही है।

जिले के पीरी बाजार में नापंचमी को लेकर मेले की तैयारी पूरी पीरी बाजार क्षेत्र का प्रसिद्घ मां मनसा विषहरी शक्तिपीठ में शुक्रवार को लगने वाले मेले की तैयार पीरी कर ली गई है। नागपंचमी की विशेषता यह है कि इसमें नाग देवता की विषेष पूजा धान के लावा एवं दूध से किया जाता है।

नागपंचमी के दिन मां भगवती के दरबार में पहुंचकर सच्चे मन से आस्था के साथ मनौती मांगने पर उनकी मन की मुरादें पुरी हो जाती है।