नाले के गंदे पानी में चलने को मजबुर हुए लोग

112
0
SHARE

दिलीप कुमार

कैमूर – तीन दिनों से हो रही लगातार बारिश ने मोहनिया नगर पंचायत की खोली पोल। मोहनिया ब्लॉक परिसर के चारों तरफ पूरे शहर के गंदे नाले का पानी हुआ जमा। मोहनिया SDM मोहनिया बीडियो सहित दर्जनों कर्मचारियों के आवास में घुसा नाली का गंदा पानी। घुटने भर पानी में जाने को मजबूर हुए लोग। सरकार जल निकासी के लिए करोड़ो रुपए खर्च करती है लेकिन मोहनिया नगर पंचायत के शिथिलता के कारण यह योजना सिर्फ लूट-खसोट के धंधे तक ही सीमित रह गया है। करोड़ो रुपए की लागत से नाला बनाए जाने के बाद भी जल जमाव की समस्या से लोगों को निदान नहीं मिल रहा है। जिसका जीता जागता उदाहरण कैमूर जिला के मोहनिया अनुमंडल क्षेत्र है।

नगर परिषद द्वारा करोड़ों खर्च किए जाते हैं लेकिन पदाधिकारी अपने आवास में गंदे पानी और कीचड़ से परेशान हैं, तो आमजन कहां से खुश रहेगा। अभी लगातार बारिश कैमूर जिला में हो रही है, इससे मोहनिया अनुमंडल के अनुमंडल पदाधिकारी शिव कुमार रावत भी परेशान नजर आए। वहीं प्रखंड मुख्यालय में प्रखंड विकास पदाधिकारी के आवास में गंदा पानी भर गया एवं कार्यालय जाने में लोगों को गंदे हो कीचड़ भरे पानी से जाना पड़ता है।

वहीं साफ-सुथरे कपड़े पहनकर विद्यालय में शिक्षा लेने जा रही छात्राएं भी गंदे एवं कीचड़ भरे पानी से जाने को मजबूर है। जहां विद्या के मंदिर में बच्चियों को जाना है पढ़ाई हेतु वही गंदे पानी से जाकर शुद्ध वातावरण में पठन-पाठन का कार्य कैसे करेंगे। देखना है कि सरकार के पदाधिकारी कर्मचारी परेशान रहेंगे तो इस भारी बरसात में आम जनों को कैसे निजात मिलेगी।

अनुमंडल अस्पताल के डॉक्टर एके दास ने बताया कि गंदे पानी से कई तरह की बीमारियां फैलती है। डायरिया, हैपेटाइटिस, और जॉन्डिस जैसी गंभीर बीमारियों से लोगों को गुजरना पड़ सकता है।