नाव हादसे में पांच दोषी अफसरों पर गिरी गाज

303
0
SHARE

नीतीश सरकार ने की बड़ी कार्रवाई
पटना: पटना नाव हादसे में नीतीश सरकार ने एक बड़ी कार्रवाई करते हुए शुक्रवार को पांच दोषी अफसरों पर गाज गिराई है। विदित हो कि 14 जनवरी को मकर संक्रांति के दिन पटना के दियारा में पतंग उत्सव का आयोजन किया गया था उसी दरभ्यान शाम को लौटते वक्त भीड़ से भरी नाव गंगा में पलट गई थी और इस हादसे में 24 लोगों ने अपनी जान गंवा दी थी। इसकी जांच के लिए 2 सदस्यीय जांच कमिटी का गठन किया गया था. कमिटी में आपदा प्रबंधन विभाग के प्रधान सचिव प्रत्यय अमृत और पटना के डीआईजी शालीन शामिल हैं. रिपोर्ट मिलने के बाद राज्य सरकार ने इस मामले में 5 अफसरों को का दोषी मानते हुए उनपर गाज गिराई है.
राज्य सरकार ने कार्रवाई करते हुए सोनपुर के एसडीओ मदन कुमार और एसडीपीओ अली अंसारी को निलंबित कर दिया है. नाव हादसे की जांच करने वाली दो सदस्ययी टीम ने दोनों को गंभीर प्रशासनिक चूक और विधि व्यवस्था में लापरवाही का दोषी पाया था. इसके अलावा पर्यटन विभाग की प्रधान सचिव हरजोत कौर, पर्यटन निदेशक तथा बिहार राज्य पर्यटन निदेशक और बिहार राज्य पर्यटन विकास निगम के प्रबंध निदेशक उमाशंकर प्रसाद और छपरा एसपी पंकज राज को उनके पद से हटा दिया गया. इनके अलावा पटना के एडीएम लॉ एंड ऑर्डर राजेश चौधरी और सिटी मजिस्ट्रेट मंजूर आलम को भी उनके पद से हटा दिया गया है. दोनों को सामान्य प्रशासन विभाग में योगदान करने का आदेश दिया गया है. हरजोत कौर को खान एवं भूतत्व विभाग का प्रधान सचिव बनाया गया है.
दोषी अफसर जिनपर गिरी है गाज –
-सोनपुर एसडीपीओ अली अंसारी- सस्पेंड
-सोनपुर एसडीओ मदन कुमार- सस्पेंड
-पर्यटन विभाग की प्रधान सचिव हरजोत कौर का दूसरे विभाग में तबादला
-पटना एडीएम राजेश चौधरी का सामान्य प्रशासन विभाग में तबादला
-पर्यटन निगम के निदेशक उमाशंकर प्रसाद का पशुपालन विभाग में तबादला