निजी क्षेत्र में आरक्षण कानून को वापस ले बिहार सरकार – रजनीश

218
0
SHARE

पटना- 2018 के मध्य पटना के गांधी मैदान लाखों – लाख संख्या में होनेवाली ब्राह्मण राज्य स्वाभिमान महासम्मेलन के राष्ट्रीय महासचिव सह प्रवक्ता रजनीश तिवारी ने निजी क्षेत्रों में आरक्षण कानून लाए जाने का विरोध करते हुए कहा कि सरकार इस फैसले को जल्द से जल्द वापस ले।
एक तरफ सरकार जहां समाज से जातिप्रथा हटाने की बात कहती है। वहीं खुद जाति प्रथा के संरक्षक जदयू और भाजपा के नेता बने हुए। अगर समाज जातिप्रथा मुक्त करना है तो आरक्षण को समाप्त कर सभी को एक समान रूप में लाने का कार्य करे बिहार सरकार। मै भी आरक्षण का समर्थन करता हूं लेकिन जातिय रूप से नहीं उसको आर्थिक रूप से किया जाना चाहिए। राजनैतिक लाभ और सत्ता वोट के लालच में जाति पर कानून लाना यह खूद जातिप्रथा को संरक्षण देना है। सरकार खुद बैकवर्ड-फारवर्ड कर समाज को तोड़ने का कार्य कर रही है।
भाजपा के शासन में आने के बाद बेरोजगारो को रोजगार नहीं मिला। ये सरकार हर चीजो को नियोजित करने में लगी हुई है अब सरकारी नौकरी जब नहीं बचेगा तब ये लोग प्राइवेट सेक्टर में आरक्षण काला कानून लाने का कार्य किया है।
हम सरकार से पूछना चाहते हैं कि क्या गरीबी और पिछड़ापन फारवर्ड में नहीं है क्या गरीबी का शिकार हम ब्राह्मण नहीं है।
फिर सौतेलेपन जैसा ब्याहवार क्यो कर रही है सरकार।
आखिर आरक्षण का लाभ पिछड़े समाज के वंचित लोग नहीं उठा पा रहे हैं। पिछड़े जाति में भी पूंजीपति इस आरक्षण का उपयोग कर इसका लाभ ले रहे हैं। क्या लालू यादव और रामविलास पासवान के लड़के के ये लोगो को भी आरक्षण की आवश्यकता है।
हम सरकार से मांग करते हैं कि इस नये कानून को वापस ले सरकार अन्यथा राज्य भर में बड़े पैमाने पर आंदोलन करेंगे।