नीतीश सरकार के जागरूकता में शामिल होकर बाल विवाह का शांति ने किया विरोध

233
0
SHARE

कटिहार – यूपी के इटावा से आये शादी करने दूल्हे को कटिहार पुलिस उस वक्त गिरफ्तार कर लिया जब 14 साल की नाबालिग शांति की शादी शांति के माँ-बाप जबरदस्ती करना चाह रहे थे। शांति के घर शादी का उत्साह था, टेंट लगा हुआ था, लोग खाना खा रहे थे और मंडप तैयार था, लेकिन शांति अभी पढ़ना चाहती थी। शांति शादी के लिए तैयार नही थी।

नीतीश सरकार बाल-विवाह के विरोध में कड़े कानून बनाकर इस कुप्रथा के खात्मे के लिए मानव श्रृंखला बनाकर लोगों को जागरूक कर रही है। नाबालिग शांति ने सरकार के कदम से कदम मिलाकर सरकार का साथ दिया और खुद की जिंदगी को बचा लिया। मंडप में शादी के लिए बैठी शांति ने किसी तरह अपनी सहेलियों और स्थानीय पुलिस को फोन पर जानकारी दी की यहां बाल विवाह हो रहा है। हालांकि बाद में शांति के परिजनों को भी बाल विवाह नहीं करनी चाहिए कि बात समझ में आई।

मनसाही थानाक्षेत्र के चितोरिया पंचायत में बथनाहा गाँव के रविदास टोला में नाबालिग की हो रही शादी की खबर मिलते ही स्थानीय पुलिस मौके पर पहुंच कर इटावा (यूपी) के दूल्हा मुकेश और साथ आये परिजन को शादी के मंडप से ही गिरफ्तार कर लिया। हालांकि शादी में हो रहे सभी तरह के खर्च को लड़के वालों ने ही उठा रखा था। लेकिन बिहार में बाल विवाह कानूनन अपराध है शायद दूल्हे और परिजन को मालूम नही था।

मौके पर शांति के द्वारा खुद की जिंदगी बचाने के लिए शादी करने आये यूपी के दूल्हे को पुलिस के द्वारा गिरफ्तार करने और बाल विवाह जैसे कुप्रथा को सरकार के द्वारा खत्म करने के प्रयास को स्थानीय ग्रामीण ने शांति के हिम्मत के साथ साथ सरकार को भी धन्यवाद दिया है।

इधर पूरे घटना पर मौके पर पहुंची कटिहार पुलिस घटना को सही पाया और दूल्हे और दूल्हे के परिजनों को गिरफ्तार किया। बाल विवाह को रोकने के लिए सरकार की ओर से कड़ाई होने की वजह से पुलिस के द्वारा कार्यवाई की गई और शांति के द्वारा उठाये गए कदम को साहसिक बताया साथ ही शांति को पुलिस और समाज का मददगार बताया। खुद के हो रहे बाल विवाह को रोकने में अहम रोल अदा की इसके लिए कटिहार पुलिस शांति को धन्यवाद दिया है।