नेता प्रतिपक्ष ने दीन बचाओ, देश बचाओ कांफ्रेंस की शानदार सफलता पर प्रसन्नता व्यक्त किया तथा इमारत-ए-शरिया बिहार को बधाई दी

101
0
SHARE

पटना – नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी प्रसाद यादव ने बीते रविवार को पटना के गांधी मैदान मे आयोजित विशाल दीन बचाओ, देश बचाओ कांफ्रेंस के ऐतिहासिक और शानदार कामयाबी के लिये इमारत-ए-शरिया बिहार, ओड़िसा एवं झारखंड को इस आयोजन की सफलता के लिये दिन-रात लगे तमाम संगठनों एवं उनके पदाधिकारियों को दिल की गहराई से मुबारकबाद एवं बधाई दी।

नेता प्रतिपक्ष ने कहा कि उन्होंने इमारत के अधिकारियों से मुलाकात की थी और दीन बचाओ, देश बचाओ कॉन्फ्रेंस के सफल आयोजन के लिए उनके साथ विचार-विमर्श किया था तथा अपने और राजद के ओर से आयोजन की सफलता के लिये हर तरह के सहयोग दिये जाने का प्रस्ताव किया था। ईश्वर की कृपा रही राज्य के तमाम लोगों का सहयोग मिला, पूरे सदभाव एवं मेल-जोल और एकता के वातावरण मे कॉन्फ्रेंस सफलता के साथ सम्पन हुआ। ईश्वर से प्रार्थना है कि कॉन्फ्रेंस मे आये तमाम लोग सकुशल अपने-अपने घरों मे वापस लौट जाए। कॉन्फ्रेंस मे मांगी गई दुआओं को खुदा ताला कबूल करें। हम भारतवसियों के बीच मेल-जोल, सदभाव और विश्वास का अटूट रिश्ता बने। हमसब मिल कर देश को प्रगति और तरक्की की ऊंचाई पर पहुंचाएं। राजद के पदाधिकारी एवं कार्यकर्ता जो इस आयोजन के सफलता के लिये लगे रहे उन्हें भी उन्होंने बधाई दी।

उन्होंने कहा कि आज देश पर संकट के बादल छाए हुए हैं। साम्प्रदायिक एवं फासिस्ट शक्ति देश की एकता को तोड़ने का प्रयास कर रही है। संविधान के साथ छेड़छाड कर संविधान बदलने की कोशिश की या रही है। मनुवादी शक्तियां दलित, पिछड़े और अल्पसंख्यकों को उनके अधिकार से वंचित करना चाह रही है। ऐसे समय मे संविधान से खिलवाड़ करने वालों को कामयाब नहीं होने देना है इसके लिए पूरे देश मे दलित, अनुसूचित जनजाति, पिछड़े, अत्यंत पिछड़े, अल्पसंख्यक, अभिवंचित, दबाये-सताये प्रगतिशील समाज के लोगों को एक प्लेटफार्म पर आकर पूरी एकता के साथ साम्प्रदायिक, मनुवादी शक्तियों के इरादों को नाकाम करना होगा। इन्हें 2019 के लोकसभा चुनाव मे करारी शिकस्त देने के संकल्प के साथ पिछड़े, दलित, अल्पसंख्यकों एवं प्रगतिशील समाज के अभिवंचियों के एकता के लिये पूरे मनोयोग से लगना होगा। हमसब मिल कर प्रेम, सदभाव और विश्वास का रिश्ता देश मे बनाएंगे और देश को विकास की नई ऊंचाई पर पहुंचाएंगे।