न्याय की आस में कैमूर से पटना पहुंची नाबालिग पीड़िता

308
0
SHARE

दिलीप कुमार

कैमूर – जिले के दुर्गावती थाना क्षेत्र की नाबालिग पीड़िता न्याय के लिए दर-दर भटक रही है। लेकिन उसे कैमूर जिला प्रशासन से न्याय मिलता हुआ नहीं दिख रहा, तो पटना जाकर महिला आयोग का दरवाजा खटखटाया। महिला आयोग के पहल पर रेप का आरोपी युवक गिरफ्तार कर जेल तो चला गया, लेकिन पीड़िता रेप की घटना के बाद उसके बच्चे की मां बन बैठी। अब उसे दरकार है इंसाफ का।

दरअसल मामला 26 मार्च का है। जहां नौवीं क्लास की छात्रा अपने गांव के बधार की तरफ गई हुई थी। वहां पहले से घात लगाए गांव के ही दरोगा का पुत्र उसका मुंह बंद कर अपने कमरे में लेकर गया उसके साथ गलत काम किया। फिर अपने ममेरे भाई के साथ मिलकर उस गांव से दूर लेकर चला गया।

पीड़िता के पिता थाने में पहुंचे तो थाना प्रभारी प्राथमिकी दर्ज नहीं कर लड़की के वापस लौट आने की बात कह कर पीड़िता के पिता को भेज दिया। घटना के दस दिन बाद पीड़िता को थाने के दरोगा ने कोर्ट में ले जाकर 164 का बयान दर्ज कराया।

परिजनों का आरोप है कि उसे डरा धमकाकर उस समय बयान लड़के के पक्ष में दिलवा दिया गया था। उसके बाद पीड़िता के पिता सभी अधिकारियों के पास आवेदन देते हुए महिला आयोग पटना पहुंचा। महिला आयोग की पहल पर डेढ़ महीने बाद आरोपी लड़के की गिरफ्तारी हुई।

उसके बाद पीड़िता आरोपी के बच्चे की मां भी बन बैठी। इन सारे प्रक्रिया गुजरते गुजरते तीन महीने का वक्त बीत गया। अब सबसे बड़ा सवाल यह उठता है कि आखिर उस पीड़िता के पेट में पल रहे बच्चे का क्या होगा? नाबालिग पीड़िता के डॉक्टर भी ऑपरेशन करने पर जान की खतरा बता रहे हैं।

कैमूर एसपी ने बताया कि इसमें आरोपी लड़के को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया है। जैसा माननीय न्यायालय का आदेश आएगा कार्रवाई किया जाएगा।