पुलिस का अमानवीय चेहरा

588
0
SHARE

भोजपुर – पुलिस का एक बार फिर अमानवीय चेहरा सामने आया है जहां पुलिस ने एक कुख्यात अपराधी के टोह में गए परिवार वालों के साथ ना सिर्फ मारपीट किया बल्कि घर में मौजूद महिलाओं के साथ छेड़छाड भी किया। उक्त आरोप पुलिस की पिटाई से जख्मी घर की महिला परिजन पुलिस अधिकारी व छापेमारी करने गई टीम पर लगा रहे हैं। घटना शाहपुर थाना क्षेत्र के सोनबर्षा गांव की है।

बताया जा रहा है कि शाहपुर थाना क्षेत्र के सोनबर्षा गांव निवासी व फिलहाल भाजपा बिहार के पूर्व उपाध्यक्ष विशेश्वर ओझा हत्याकांड के आरोप में जेल में बंद शिवाजीत मिश्रा के घर कल बीती देर रात एएसपी जगदीशपुर मनजीत सिमरौन के नेतृत्व में भारी संख्या में पुलिस बल शिवाजीत मिश्रा के बेटे ब्रजेश मिश्रा को गिरफ्तार करने गुप्त सूचना के आधार पर गई हुई थी। रात में छापेमारी करने पहुंची पुलिस के हाथ जब ब्रजेश मिश्रा नहीं लगा तो वह खुन्नस निकालते हुए घर की महिलाओं पर अपना कहर बरपाने लगे। इस दौरान पुलिस टीम ने घर में मौजूद महिलाओ को लाठी-डंडे से पिटाई की साथ ही उनके साथ पुलिस अधिकारी ने छेड़छाड भी किया।

जख्मी महिला परिजन का आरा सदर अस्पताल में इलाज चल रहा है। पुलिसिया बर्बरता का निशान जख्मी महिलाओं के शरीर पर साफ दिखाई दे रहा है। महिलाओं के शरीर पर लाठी-डंडे की चोट देख कोई भी सिहर उठेगा। पीड़ित महिलाओं ने कहा कि वह लगातार ब्रजेश को कोर्ट में सरेंडर करने के लिए दबाव बना रही है। लेकिन पुलिस ब्रजेश के नाम पर हम लोगों के साथ जातती कर रही है। बता दें कि बिहार बीजेपी के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष विशेश्वर ओझा की हत्या में ब्रजेश मिश्रा फिलहाल फरार चल रहा है जिसे पुलिस गिरफ्तार करने के लिए गई हुई थी। बहरहाल इस मामले में पुलिस की तरफ से कोई औपचारिक बयान नहीं दिया जा रहा है जिससे यह स्पष्ट हो कि आखिरकार यह बात सही है या गलत!