पुलिस की दरिंदगी: थानेदार ने गर्भवति महिला को पीटा, हुआ गर्भपात

551
0
SHARE

फारबिसगंज: बिहार के अररिया जिले फारबिसगंज स्थित कुर्साकांटा थाना पुलिस ने शनिवार रात घाट चिकनी गांव में छापेमारी के दौरान छह माह की गर्भवती महिला को इतना पीटा कि बच्चे की जान ही चली गई।

आरोप है कि दलबल के साथ पहुंचे कुर्साकांटा थानाध्यक्ष विकास कुमार आजाद ने राइफल के कुंदे से महिला के पेट पर मारा। इससे महिला बेहोश हो गई और अत्यधिक रक्तस्राव होने लगा। फारबिसगंज अनुमंडलीय अस्पताल में असामयिक प्रसव हुआ और इसके तुरंत बाद बच्चे की मौत हो गई। अस्पताल में महिला की स्थिति गंभीर बताई जा रही है।

हालांकि यह महिला किसी मामले में आरोपी नहीं थी। बल्कि पुलिस उसके वारंटी पति ब्रह्मदेव मंडल और देवर मनोज मंडल को गिरफ्तार करने गई थी। दोनों को गिरफ्तार कर लिया गया। इस कार्रवाई के दौरान पुलिस टीम में कोई महिला सिपाही नहीं थी।

अस्पताल में भर्ती महिला का पुलिस ने बयान दर्ज कर लिया है। इसमें भी उसने थानाध्यक्ष पर कुंदे से मारने का आरोप लगाया। हालांकि, थानेदार ने महिला की पिटाई के आरोप को सिरे से इनकार किया है।

अस्पताल में भर्ती महिला धनेश्वरी देवी (35 वर्ष) ने बताया कि उसके पति ब्रह्देव मंडल के खिलाफ कोर्ट से वारंट जारी है। शनिवार देर रात कुर्साकांटा थानाध्यक्ष विकास कुमार आजाद छह पुलिसकर्मियों के साथ उसके पति को खोजते हुए घर पहुंचे। इसी बीच पूछताछ करते हुए थानेदार व अन्य पुलिसकर्मियों ने गालीगलौज शुरू कर दी और विरोध करने पर रायफल के कुंदे से पेट पर मारा। इसके बाद वह बेहोश हो गयी और जब होश आया तो वह फारबिसगंज अस्पताल में थी।

महिला को जब अस्पताल लाया गया तो उसे अत्यधिक रक्तस्राव हो रहा था। डीएस डॉ. अजय कुमार सिंह के निर्देश पर महिला चिकित्सक डॉ. शीला कुंवर ने जांच शुरू की, लेकिन महिला का रक्तस्राव नहीं रुक रहा था। कुछ देर बाद उसका असामयिक प्रसव हुआ और थोड़ी देर बाद ही बच्चे की मौत हो गई। इलाज करने वाली डॉक्टर ने भी माना कि अत्यधिक रक्तस्राव के कारण असामयिक प्रसव हुआ। हालांकि, इसके कारणों पर उन्होंने कुछ भी स्पष्ट नहीं किया।

अस्पताल प्रशासन से असामयिक प्रसव और बच्चे की मौत की सूचना मिलने के बाद फारबिसगंज थाने के दारोगा घनश्याम सिंह ने अस्पताल पहुंचकर महिला का बयान दर्ज किया। इसमें भी महिला ने कुर्साकांटा थानेदार विकास कुमार आजाद पर कुंदे से पेट में मारने का आरोप लगाया। ऑन ड्यूटी डॉक्टर एनएल दास ने बताया कि रक्तस्त्राव की स्थिति में महिला को भर्ती कराया गया था।

कुर्साकांटा थानाध्यक्ष विकास कुमार आजाद ने महिला की पिटाई से साफ इंकार किया है। उन्होंने कहा कि वारंटी ब्रह्मदेव मंडल और उसके छोटे भाई मनोज मंडल की गिरफ्तारी के लिए छापेमारी की गई थी। दोनों को गिरफ्तार कर लिया गया है। किसी महिला के साथ मारपीट नहीं हुई है।

वहीं एसपी सुधीर कुमार पोरिका ने बताया कि महिला के आरोपों की जांच करायी जाएगी। अगर गर्भवती को पीटने का आरोप सही निकला तो थानेदार सहित अन्य दोषी पुलिसकर्मियों के खिलाफ भी विधिसम्मत कार्रवाई की जाएगी।