पूरे भारत में 50 करोड़ मजदूर अब भी असंगठित क्षेत्र में काम करने को हैं मजबूर : स्वामी अग्निवेश

154
0
SHARE

पटना – देश के मजदूरों की हालत काफी दयनीय है। पूरे भारत में 50 करोड मजदूर अब भी असंगठित क्षेत्र में काम करने को मजबूर हैं। सरकार योजनाएं तो चला रही है, लेकिन जानकारी के अभाव में मजदूर उसका लाभ नही ले पाते हैं। उक्त बातें बंधुआ मुक्ति मोर्चा के राष्ट्रीय अध्यक्ष स्वामी अग्निवेश ने कही। वे बुधवार को आद्री कैंपस में मोर्चा द्वारा आयोजित ‘‘भारत में असंगठित क्षेत्र के मजदूरों की दशा और दिशा’’ विषयक कार्यशाला को संबोधित कर रहे थे।

असंगठित क्षेत्र के मजदूरों को 7वें वेतनमान आयोग के हिसाब से जो चतुर्थवर्गीय कर्मचारियों का वेतन होता है, उतना देने पर जोर दिया और कहा कि जबतक मजदूरों के प्रति सरकार पूरी तरह से सजग नही हो जाती तब तक देश व समाज में खुशहाली की बात करना बेमानी होगी। पूरे देश में मजदूरों का शोषण हो रहा है और सरकारी उदासीनता के कारण उनका जीवन तबाह व बर्बाद हो रहा है।

उन्होंने हर स्तर से जागरूक होने का आह्वान करते हुए कहा कि ठोस पहल करने का समय आ गया है। साथ ही समाज को संवेदनशील बनाना होगा। इस अवसर पर मौजूद बालसा के रजिस्ट्रार रोहित कुमार ने हर स्तर से अपना सहयोग देने का भरोसा दिलाया और जागरूकता का अभाव बताते हुए समस्या का मुख्य कारण बताया। शाश्वत गौतम ने मजदूरों की समस्या पर चिंता जताते हुए कहा कि सबों को अपनी-अपनी जिम्मेवारी समझनी होगी। सेमिनार की अध्यक्षता डा. रामजी प्रसाद सिंह ने की जबकि संचालन मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष मनोहर मानो ने किया। इस अवसर पर वरीय अधिवक्ता विकास पंकज, संदीप शाही, संजय सहित बड़ी संख्या में लोगों ने अपने-अपने विचार व्यक्त किए और मजदूरों के कल्याण के लिए काम करने पर बल दिया।