पूर्व विधायक किशोर मुन्ना ने बाढ़ प्रभावित इलाके का किया दौरा

294
0
SHARE

सुपौल – पिछले दिनों 13-14 जुलाई को सुपौल जिले में कोसी नदी, भुतही बलान और तिलयुगा नदी में अत्‍यधिक बाढ़ का पानी आ जाने से मरौना प्रखंड बाढ़ से पूर्णत: प्रभावित हो गया। इससे जन जीवन पूरी तरह से अस्‍त व्‍यस्‍त हो गया है और आम जनों को घोर कठिनाईयों का सामना करना पड़ रहा है।

इस दौरान 26-27 जुलाई के सुपौल प्रवास के दौरान भाजपा नेता सह पूर्व विधायक किशोर कुमार ने बाढ प्रभावित क्षेत्र सिसौनी, बड़हारा, घोघनरिया, परिकोच, गणौरा, कमरैल, मरौना दक्षिण, मरौना उत्तर पंचायत के विभिन्‍न गांवों का निरीक्षण किया। वहां उन्‍होंने बाढ़ पीड़ितों से मिलकर उनकी समस्‍याएं सुनी और पीड़ितों को इस कठिन घड़ी में सहयाता के लिए हरसंभव मदद का भरोसा दिलाया।

उन्‍होंने कहा कि इस प्राकृतिक आपदा में सरकार बाढ़ की मार झेल रहे लोगों के साथ है। इस आपदा में कोई भी राहत कार्यों से वंचित नहीं रहेगा। जिनका नाम बीपीएल में है, उनको भी लाभ मिलेगा और जो कार्डधारी नहीं है, उन्‍हें भी सरकार द्वारा राहत दिलवाया जायेगा।बिचौलिया से सावधान रहने की जरूरत है। वैसे लोग जो राशनधारी नहीं हैं और वह रिश्‍वत के नाम पर उगाही कर रहा है, तो वैसे लोगों की सूचना प्रशासन को दें, ताकि प्रशासन उनके खिलाफ सख्‍त कार्रवाई करेगी।

उन्‍होंने कहा कि बाढ़ के कारण पशुओं के चारा का घोर अभाव है, क्योंकि पशु पालकों का भूषा पानी में बर्बाद हो गया है। बाढ़ की वजह से फसल भी नष्‍ट हो गया है। इसलिए हम प्रशासन से भी अपील करते हैं कि वे पशुचारा की भी व्‍यवस्‍था करें और लोगों के बीच उसका वितरण करें। साथ ही किसानों को फसल क्षति का मुआवजा अविलंब दें।

किशोर कुमार ने कहा कि बाढ़ की वजह से आज भी यहां दर्जनों गांवों में यातायात बहाल नहीं हो पाया है। सड़़क ध्‍वस्‍त है। कई वैसे जगह है, जहां नाव भी नहीं है। इसलिए हमने जिलाधिकारी से आग्रह किया है कि वे बाढ़ की वजह से कट गए सभी सड़कों को चालू करवाने के लिए निर्माण व मरम्‍मत कार्य युद्ध स्‍तर पर शुरू करने का आदेश दें। क्षतिग्रस्‍त सड़क में तत्‍काल ईंट की टुकडी और मिट्टी भरा जाये और प्रशासनिक विभाग क्षतिग्रस्‍त पथ को चिन्हित कर वहाँ पुल का निर्माण करें। क्‍योंकि हर साल नेपाल में अत्‍यधिक बारिश का प्रभाव मरौना और सुपौल के लोगों पर पड़ता है।   

उन्‍होंने कहा कि बाढ़ पीडि़तों को प्रशासन द्वारा उनके खाते में जो छह हजार रूपये दिये जा रहे हैं, उनमें तेजी लाया जाय। अनुश्रवण समिति से बाढ़ पीड़ित की सूची पास कराया जाय, जिससे पारदर्शिता बनी रहे। कुछ जगहों पर सूची में हेर फेर की शिकायत मिल रही है, उस पर कार्रवाई हो।

उन्‍होंने कहा कि बाढ़ के बाद डीडीटी का छिड़काव भी जरूरी है, नहीं तो महामारी फैलने की संभावना है। इस दौरान किशोर कुमार के साथ मरौना दक्षिण मंडल अध्‍यक्ष चंद्रवीर यादव, अतिपिछड़ा मंच जिलाध्‍यक्ष प्रभाष मंडल, युवा मोर्चा मंडल अध्‍यक्ष मिथिलेश यादव, महामंत्री सुनील मिश्र,गौरीशंकर सिंह, राजकुमार राय,शिवशंकर सिंह, लाल बहादुर मुखिया,गंगा सिंह, रामेश्‍वर यादव, नागेंद्र राम,मकेश्‍वर मंडल, श्रवण मुखिया, जयकृष्‍ण यादव, रमेश यादव, दीपनारायण मुखिया,राजेंद्र मुखिया, जीवछ मुखिया आदि लोग मौजूद रहे।