पेंशन योजना में हो रहे फर्जीवाड़े को ले सीएम सख्त, जिलाधिकारियों को दिए सख्त निर्देश

602
0
SHARE

पटना:- मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने आज सुपौल समाहरणालय सभागार में मधेपुरा, सहरसा एवं सुपौल जिले के विकास कार्यों की समीक्षा बैठक की अध्यक्षता की। सात निश्चय एवं अन्य विकासात्मक योजनाओं के तहत इन जिलों में चल रहे कार्यों की समीक्षा को लेकर यह संयुक्त समीक्षा बैठक थी। बैठक में मुख्य रुप से अब तक की उपलब्धियों एवं विकास कार्यों को पूरा करने में आ रही दिक्कतों पर चर्चा हुई। बैठक में सात निश्चय के अंतर्गत स्टुडेंट क्रेडिट कार्ड योजना, हर घर बिजली कनेक्शन, हर घर तक पक्की गली-नाली योजना, हर घर नल का जल, ग्रामीण टोला संपर्क योजना, शौचालय निर्माण घर का सम्मान, अवसर बढ़े आगे पढ़ें की बिंदुवार समीक्षा की गई, जिसमें संबंधित विभाग के प्रधान सचिव/सचिव और तीनों जिलों के जिलाधिकारियों ने अपने-अपने जिले की वर्तमान स्थितियों से विकास योजनाओं के संबंध में प्राप्त उपलब्धियों एवं लक्ष्य को मुख्यमंत्री के समक्ष रखा।

इसके साथ-साथ लोक सेवा का अधिकार कानून एवं लोक शिकायत निवारण अधिकार अधिनियम के तहत प्राप्त आवेदनों के निष्पादन की पूरी वस्तुस्थिति से सामान्य प्रशासन विभाग के प्रधान सचिव श्री आमिर सुबाहानी ने मुख्यमंत्री को अवगत कराया। बैठक में मधेपुरा, सुपौल और सहरसा के विधायकों, विधान पार्षदों, जिला परिषद और नगर परिषद के प्रतिनिधियों द्वारा शिक्षा, स्वास्थ्य, भूमि के हो रहे एरियल सर्वे, सड़क निर्माण, पुल- पुलिया का निर्माण, पेंशन योजनाओं, सिंचाई जैसी अन्य कई क्षेत्रों से जुड़ी समस्यायें और शिकायतें मुख्यमंत्री के समक्ष रखी गयी। समस्याओं को सुनने के क्रम में मुख्यमंत्री ने अधिकारियों को निर्देश देते हुए कहा कि इस समीक्षा बैठक में जो तय हुआ है, उसको कम्यूनिकेट कर रिस्पांड करिए। उन्होंने कहा कि एक सिस्टम डेवलप करिए ताकि इसे पिकअप किया जा सके। संबंधित विभाग के अधिकारियों ने मुख्यमंत्री के समक्ष जो भी समस्याएं जनप्रतिनिधियों द्वारा उठाई गई, उसका अविलम्ब निष्पादित करने का आश्वासन दिया। पेंशन योजना में शिकायतें मिलने के बाद मुख्यमंत्री ने कहा कि बैंकों का जो ग्राहक सेवा केंद्र है, उससे फर्जीवाड़ा करने की कई शिकायतें आई हैं और ऐसे में जो अनपढ़ या कम पढ़े-लिखे लाभुक हैं, उनके खाते से अधिक पैसे की निकासी कर उनका अंगूठा लगवा कर उन्हें कम पैसे दिये जा रहे हैं।

मुख्यमंत्री ने इस समीक्षा बैठक में जिलाधिकारियों को सख्त हिदायत देते हुए कहा कि जो भी इस तरह की धंधेबाजी ग्राहक सेवा केंद्र पर कर रहे हैं, उस पर एफ0आई0आर0 कर उसकी तत्काल गिरफ्तारी करवाइए, तभी फर्जीवाड़ा करने वालों के अंदर भय कायम होगा और इस पर रोक लग पाएगी। मुख्यमंत्री ने कहा कि विभाग इस सम्बंध में रेडियो और एफ0एम0 पर डेट को प्रचारित करवाये क्योंकि देहात में अधिकांश लोगों के पास सूचना रेडियो के माध्यम से ही पहुंचती है। अधिकारियों को निर्देश देते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि इसके लिए कोई ठोस उपाय निकालिए ताकि इस समस्या का स्थाई समाधान हो सके और सिस्टम को पारदर्शी बनाया जा सके।

विकास कार्यों की समीक्षा बैठक से पूर्व नगर विकास एवं आवास विभाग द्वारा मुख्यमंत्री शहरी क्षेत्र विकास योजनान्तर्गत जिला शहरी विकास अभिकरण सुपौल के अधीन नगर परिषद क्षेत्रांतर्गत 49.85 लाख रुपए की लागत से निर्मित महात्मा गांधी चिल्ड्रेन पार्क का उद्घाटन मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने किया, इसके बाद उद्यान में लगी बापू की प्रतिमा पर माल्यार्पण कर उद्यान का भ्रमण किया आर उद्यान के अंदर वृक्षारोपण भी किया।

इस समीक्षा बैठक में पटना से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से मुख्य सचिव अंजनी कुमार सिंह, प्रधान सचिव गृह आमिर सुबहानी, प्रधान सचिव नगर विकास एवं कला संस्कृति चैतन्य प्रसाद, प्रधान सचिव स्वास्थ्य एवं शिक्षा आर0के0 महाजन, प्रधान सचिव ऊर्जा श्री प्रत्यय अमृत, प्रधान सचिव वित्त सुजाता चतुर्वेदी ने अपनी बातों को रखा।

इस बैठक में उप सभापति बिहार विधान परिषद मो0 हारुण रशीद, मद्य निषेध, उत्पाद एवं निबंधन तथा ऊर्जा मंत्री विजेंद्र प्रसाद यादव, अनुसूचित जाति-अनुसूचित जनजाति सह सुपौल जिले के प्रभारी मंत्री रमेश ऋषिदेव, लघु जल संसाधन एवं आपदा प्रबंधन मंत्री दिनेश चंद्र यादव, विकास आयुक्त ?शिशिर सिन्हा, पुलिस महानिदेषक पी0के0 ठाकुर, मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव चंचल कुमार, मुख्यमंत्री के सचिव अतीश चंद्रा, मुख्यमंत्री के सचिव मनीष कुमार वर्मा, मुख्यमंत्री के विशेष कार्य पदाधिकारी गोपाल सिंह, विभिन्न विभागों के प्रधान सचिव/सचिव कोसी प्रमंडल की आयुक्त सुश्री टी0एन0 विन्देश्वरी, तीनों जिलों के जिलाधिकारी, तीनों जिलों के पुलिस अधीक्षक सहित तीनों जिलों के जिला परिषद और नगर परिषद के प्रतिनिधिगण उपस्थित थे।