पैरालिंपिक में परचम लहराकर स्वदेश लौटने पर दीपा का भव्य स्वागत

254
0
SHARE

पटना: रियो पैरालिंपिक खेलों में परचम लहराकर दीपा मलिक के भारत लौटने पर दिल्ली के इंदिरा गांधी अंतरराष्ट्रीय हवाईअड्डे पर भव्य स्वागत हुआ। लोगों ने फूलमाला और ढोल-नगाड़ों के साथ जोरदार स्वागत किया गया।

थलसेना के जवानों ने भी दीपा को बधाई दी। दिल्ली के आईजीआई एयरपोर्ट पर उनके फैन्स और परिवारवालों के अलावा हरियाणा सरकार के मंत्री अनिल विज भी मौजूद थे।

पैरालिंपिक खेलों में पदक जीतने वाली पहली भारतीय महिला एथलीट बनीं दीपा ने शॉटपुट स्पर्धा में रजत पदक जीता है। हवाई अड्डे पर उनके पहुंचते ही दीपा का जमकर स्वागत किया गया। उन्होंने कहा कि मैं बहुत सम्मानित महसूस कर रही हूं। मैं अब महसूस कर रही हूं कि मेरे हाथों में जो पदक है वह मेरा है। यह हकीकत है और मैं बहुत खुश हूं।

दीपा ने महिलाओं की शॉटपुट स्पर्धा में अपना व्यक्तिगत सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करते हुए 4.61 मीटर की थ्रो के साथ रजत पदक पर कब्जा किया था। अर्जुन अवार्ड विजेता दीपा कमर के नीचे से लकवाग्रस्त हैं।

आर्मी आफिसर की पत्नी दीपा के दो बच्चे हैं। उन्हें वर्ष 1999 में रीढ की हड्डी में ट्यूमर हो गया था जिसके बाद वह कमर के नीचे से लकवाग्रस्त हो गयीं थीं। 6 वर्ष के बाद उन्होंने पैरा खेलों में उतरने का निर्णय किया। दीपा जैवलिन थ्रो और तैराकी जैसे खेलों का भी हिस्सा रही हैं।

दीपा ने इस मौके पर देश का धन्यवाद किया और कामयाबी के लिए सरकार और अपने परिवार को सबसे बड़ा सहयोगी बताया। दीपा का कहना है कि हमने इतिहास तो रचा है, लेकिन अब और ज्यादा मेहनत करनी है। अन्य विकलांग खिलाड़ियों को सन्देश देते हुए दीपा ने कहा कि खुद पर विश्वास रखने से हर मुमकिन मुकाम हासिल की जा सकती है।