पोस्टमार्टम मामले में सीएम नीतीश ने दिए जांच के निर्देश

478
0
SHARE

पटना: बिहार के कटिहार में पॉलीथीन में शव को लेकर जाने के मामले पर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने बुधवार को जांच का निर्देश दिया है। मुख्यमंत्री ने पुलिस भवन निर्माण निगम के कार्यक्रम में ही अधिकारियों पर नाराजगी जतायी। स्वास्थ्य विभाग के प्रधान सचिव आर के महाजन को भी बुला लिया।

मुख्यमंत्री ने कहा कि एक बार जब पोस्टमार्टम होना तय हो गया तो यह सरकार की जिम्मेवारी है। इसके लिए गाइड लाइन होना चाहिए। मीडिया में चलने के बाद भागलपुर जाने के लिए गाड़ी दी गयी। नीतीश ने कहा कि इन सब चीजों से मन दुखी हो जाता है।

उन्होंने कहा कि मैंने आज ही इस संबंध में चर्चा की है। इन सभी चीजों के लिए स्टैंडर्ड प्रैटिक्स होना चाहिए। सिविल सर्जन, पुलिस अधीक्षक या फिर थानेदार जिसकी भी ड्यूटी हो पहले से इंतजाम किया जाना चाहिए। सीएम ने कटिहार के सिविल सर्जन की काबिलयत पर भी सवाल उठाये।

गौरतलब है कि कटिहार में एक परिवार को प्लास्टिक में लपेट कर बेटे के शव को हाथों से उठा कर ले जाना पड़ा। स्थानीय थाना ने 25 सितंबर को पोस्टमार्टम के लिए शव को कटिहार सदर अस्पताल भेजा लेकिन अस्पताल प्रबंधन की लापरवाही की वजह से 24 घंटा बीत जाने के बाद भी शव का पोस्टमार्टम नहीं किया गया और अंत में पोस्टमार्टम के लिए उसे भागलपुर भेजा गया।

अस्पताल प्रबंधन ने संवेदनहीनता की सारी हदें पार करते हुए शव को ले जाने के लिए शव वाहन तक भी उपलब्ध नहीं कराया। हद तो तब हो गई जब इस गरीब परिवार को पोस्टमार्टम के लिए खुद से प्लास्टिक के बोरे में बंधे शव को हाथों से टांग कर ले जाना पड़ा।