प्लूटो ने अपने साथी उपग्रह कैरन को किया लाल : नासा

871
0
SHARE

नासा के अंतरिक्षयान न्यू होराइजन्स के शोध के मुताबिक प्लूटो के सबसे बड़े उपग्रह कैरन के ध्रुवीय क्षेत्र का रंग लाल हो गया है। दरअसल प्लूटो इस बर्फीले ग्रह के वातावरण से मिथेन गैस के पलायन करने का परिणाम है। नासा के अंतरिक्षयान न्यू होराइजन्स ने पिछले साल सबसे पहले इस रंगीन क्षेत्र की पहचान की थी। अब वैज्ञानिकों ने भी इसके पीछे के रहस्य को सुलझा लिया है।

शोधकर्ताओं का मानना है कि मिथेन गैस प्लूटो के वातावरण से पलायन कर जाती है और उपग्रह के गुरूत्व के कारण बंध जाती है। फिर यह जम जाती है और कैरन के ध्रुव पर बर्फीली सतह के रूप में तब्दील हो जाती है।

साथ ही सूर्य की पराबैंगनी किरणों की रासायनिक प्रक्रिया के कारण मिथेन भारी हाइड्रोकार्बन में बदल जाती है और फिर वह थोलिंस नामक लाल कार्बनिक पदार्थ में तब्दील हो जाती है।

अमेरिका की लॉवेल ऑब्जर्वेटरी में न्यू होराइजन्स के सह-जांचकर्ता के मुताबिक किसने सोचा होगा कि प्लूटो एक कलाकार है, जो अपने साथी को लाल रंग में रंग सकता है। इस लाल क्षेत्र का आकार न्यू मेक्सिको जितना है। न्यू होराइजन्स ने कैरन के दूसरे ध्रुव के बारे में भी आकलन किया है।

यह ध्रुव अभी अंधकार में है। इसे न्यू होराइजन्स ने प्लूटो से परावर्तित होकर आते प्रकाश की मदद से ही देखा है। उसने यह पुष्टि की है कि कैरन के दूसरे ध्रुव पर भी ऐसा ही हो रहा है।