फर्जी डीटीओ सहित तीन गिरफ्तार, दो आरोपी हुए फरार

2140
0
SHARE

दिलीप कुमार

कैमूर – जिले में पिछले कई माह से फर्जी डीटीओ बन कर NH-2 पर जा रहे ओवरलोडेड गाड़ियों पर धौंस दिखा कर फाइन काटने के नाम पर अवैध राशि उगाही करने वाले तीन लोग हुए गिरफ्तार। उनके दो साथी हुए फरार।

उनके पास से एक पिस्टल, 10 जिंदा गोली, एक खोखा, 7 मोबाइल, 5 सिम कार्ड, नव एंट्री चलाने वाला वॉल्यूम रशीद, 16900 रुपया, तीन आधार कार्ड, दो लग्जरी कार, 2 मतदाता पहचान पत्र, एक डी एल, एक पैन कार्ड, एक शॉपिंग कार्ड हुआ बरामद। यह सभी अपराधी अंतर राज्य सरगना है। बिहार और यूपी के कई थानों में इनके ऊपर कई अपराधिक मामले दर्ज हैं। उसमें यह जेल भी जा चुके हैं।

कैमूर एसपी ने प्रेस वार्ता कर बताया कि देर रात्रि गुप्त सूचना मिली कि एक खाली गाड़ी को यह लोग पकड़ कर अपने आप को डीटीओ बताकर उसे डेढ़ लाख रुपया जुर्माना वसूल रहे थे। गुप्त सूचना मिलने के बाद पुलिस ट्रक मालिक के साथ मिलकर जुर्माने की मांगी गई डेढ़ लाख रुपया लेकर खुद गई। यह लोग अपना लोकेशन कभी कैमूर जिले के कुदरा तो पटना मोड़ मोहनिया बताते रहे। पटना मोड़ मोहनिया के पास पैसा लेने के लिए वे लोग आए। जैसे ही पैसा लेने के लिए वह लोग पहुंचे पुलिस ने उनको घेराबंदी कर दबोच लिया।

पुलिस में पकड़े जाने के बाद भी यह लोग अपने आप को डीटीओ कैमूर बताते रहे। लेकिन जब इन की तलाशी ली गई, तो इनके द्वारा पकड़े गए ट्रक का कागजात, एक पिस्टल सहित दर्जनों सामान बरामद हुआ। इनके पास जितने भी आधार कार्ड और वोटर आईडी कार्ड बरामद हुआ वह सब अलग-अलग व्यक्तियों के नाम पर अपना फोटो चिपकाकर फर्जी तरीके से बनवाए हुए थे।

इनका अपराधिक इतिहास खंगाला जा रहा है, ये बिहार झारखंड के साथ-साथ यूपी के भी कई थानों के वांछित अपराधी हैं। कई बार यूपी में जेल भी जा चुके हैं। इनके पास से मां मुंडेश्वरी ट्रांसपोर्ट के नाम से 9 रसीद वॉल्यूम जो एंट्री का काम करता है बरामद हुआ है, यह ओवरलोड ट्रकों को इसी रशीद पर इंट्री करा कर बिना डर के पार कराते आ रहे हैं। पिछले कई सालों से इनका धंधा फलता फूलता रहा है और जांच चल रहा है। उनके फरार साथियों के गिरफ्तारी के लिए छापेमारी जारी है।