फसल बीमा योजना पर भाजपा का हाय तोबा क्यों ?

460
0
SHARE

पटना: भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष मंगल पांडेय ने कहा है कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार तो फसल बीमा योजना पर सिर्फ राजनीति ही कर रहे हैं। वह बिहार में प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना लागू करना नहीं चाहती थी। लेकिन भाजपा के दबाव पर उसे विवश होकर इसे लागू करना पड़ा।

उन्होने कहा कि प्रधानमंत्री के साथ मुख्यमंत्री का नाम बीमा योजना में शामिल करने की उनका मांग न केवल हास्यास्पद है बल्कि हैरतअंगेज हैं। इस सबसे स्पष्ट है कि वे किसानों के हितों के लिए नहीं अपनी राजनीति के लिए केन्द्र से टकराव चाहते हैं।

पांडेय ने आगे कहा कि प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना की अवधि 31 अगस्त 2016 तक बढ़ाने के लिए बिहार के करोड़ों किसान प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी एवं केन्द्रीय कृषि मंत्री राधामोहन सिंह के कृतज्ञ हैं।

केन्द्र सरकार ने राज्यों के आग्रह पर फसल बीमा योजना के प्रस्ताव को जमा करने की अंतिम तारीख 31 जुलाई से बढ़ाकर 10 अगस्त की थी। लेकिन बिहार सरकार इसमें आना-कानी करती रही।

राज्य सरकार द्वारा 12 अगस्त को दोपहर में तारीख बढ़ाने के अनुरोध पत्र भेजा गया जिसे मात्र डेढ़ घंटे के भीतर ही केन्द्रीय कृषि मंत्री राधामोहन सिंह ने स्वीकारते हुए इसे 31 अगस्त 2016 तक बढ़ाने की घोषणा की। बीमा योजना की अवधि विस्तारित कर साबित कर दिया कि वो सही मायने में किसानों की हितैषी है।