बदलती दुनिया में युवा : उनकी उलझनें और मानसिक सेहत विषय पर संवाद

150
0
SHARE

पटना – पटना विश्वविद्यालय के हिंदी सह जनसंचार विभाग, पटना कॉलेज और इंडियन साइकिएट्रिक सोसाइटी द्वारा ‘बदलती दुनिया में युवा : उनकी उलझनें और मानसिक सेहत’ विषय पर संवाद का आयोजन किया गया. इस कार्यक्रम के मुख्‍य वक्‍ता इंडियन साइकिएट्रिक सोसाइटी के ऑनरेरी जेनरल सेक्रेटरी डॉ विनय कुमार रहे.

कार्यक्रम के दौरान बिनय कुमार ने कहा कि कला और विज्ञान में जो मूल अंतर होता है उस तरह से मेथोडीकैल नहीं होती है. हम लोग का जो दिमाग है वो राइट और लेफ्ट दो ब्रेन में बटा हुआ है. राइट ब्रेन जो होता है उसका इमोशनल होता है भावनाएं ज्यादा होती है औऱ चीजो को संपूर्णता में देखता है एक साथ. लेकिन लेफ्ट ब्रेन चिजों को बाट-बाट कर देखता है. इसलीए लेफ्ट ब्रेन वाले ज्यादातर वैज्ञानिक बनते हैं और राइट ब्रेन वाले ज्यादातर कवि कलाकार बनते है. राइट ब्रेन वाले पूरेपन में देखते हर चीज को और लेफ्ट वाले हर चीज को तोड़-तोड़ कर देखते हैं.