बस पकोड़े और पान की दुकान तक सरकार सीमित है – मो0 कारी सोहैब

186
0
SHARE

पटना – युवा राजद के प्रदेश अध्यक्ष मो0 कारी सोहैब ने संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहा कि पीएम नरेन्द्र मोदी सरकार के चार साल पूरे हो गए। लोकसभा चुनाव के वक्त मोदी जी ने देश की जनता से जो भी वादे किए थे उसमें एक भी पूरे नहीं हुए। आप कह सकते हैं कि चार साल देश का बुराहाल, चार साल देश के नौजवान बेहाल। जिस तरह से भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान विराट कोहली के फिटनेस चैलेंज को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी ने स्वीकार किया था उसी तरह बिहार के पूर्व उपमुख्यमंत्री सह नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने पीएम मोदी को युवाओं को रोजगार देने, किसानों को राहत देने, दलित और अल्पसंख्यकों के खिलाफ अत्याचार रोकने के लिए चैलेंज स्वीकार करने का आग्रह किया था लेकिन आज तक पीएम नरेन्द्र मोदी ने जनहित से जुड़े चैलेंज को स्वीकार नहीं किया। जबकि युवाओं को रोजगार मुहैया कराने, किसानों को राहत देने, अल्पसंख्यकों के खिलाफ अत्याचार रोकने जैसे मुद्दे पीएम मोदी के द्वारा किए गए वादे ही हैं।

उन्होंने कहा कि पीएम मोदी ने प्रत्येक वर्ष 02 करोड़ युवाओं को नौकरी देने का वादा किया था। चार साल में अपने वादे के अनुसार मोदी सरकार को 08 करोड़ युवाओं को नौकरी मुहैया कराना था। लेकिन मोदी सरकार ने 4.16 लाख नौकरियां ही मुहैया करा पायी। दूसरी तरफ नोटबंदी के कारण 20 लाख लघु और कुटीर उद्योग बंद हो गए। आईटी सेक्टर से 20 लाख लोग बेरोजगार हो गए। युवाओं और मजदूरों के बीच राजेगार के लिए हाहाकार मचा हुआ है। जबकि हर माह देश में 10 लाख युवा नौकरी के कतार में जुड़ जाते हैं पर मोदी सरकार के पास रोजगार के अवसर नहीं है। बस पकोड़े और पान की दुकान तक सरकार सीमित है। इसलिए युवा राजद केन्द्र और राज्य सरकार के खिलाफ में ‘‘रोजगार नहीं तो सरकार नहीं’’ के नारों के साथ राज्यव्यापी आन्दोलन का घोषणा किया।

उन्होंने कहा कि प्रथम चरण में युवा राजद 15 जून, से 19 जून तक प्रखंड स्तर तक युवा संपर्क अभियान चला कर युवाओं के बीच केन्द्र और राज्य सरकार के विफलताओं को बताएंगे। 20 जून, 2018 को राज्य के सभी जिला मुख्यालय पर ‘‘रोजगार नहीं तो सरकार नहीं’’ के नारों के साथ केन्द्र और राज्य सरकार के खिलाफ एक दिवसीय महाधरना देगी। संवाददाता सम्मेलन में युवा राजद प्रदेश प्रवक्ता अरूण कुमार यादव, दिनेश पासवान, अजीत कुशवाहा, सतीश कुमार चन्द्रवंशी, रामराज कुमार, मंजीत कुमार आदि उपस्थित थे।