बाढ़ राहत कार्य पूरी मुस्तैदी के साथ चलाया जा रहा है: मुख्यमंत्री

492
0
SHARE
A flood-affected villager swims through the flooded waters of river Ganges after heavy rains at Patna district, in the eastern Indian state of Bihar, August 29, 2013. REUTERS/Krishna Murari Kishan (INDIA - Tags: DISASTER ENVIRONMENT)

पटना, 25 जुलाई 2015: मंत्रिमण्डल की बैठक क बाद मीडिया द्वारा आज आये भूकम्प के संबंध में पूछे गये प्रश्न पर मुख्यमंत्री श्री नीतीश कुमार ने कहा कि वे बैठकर काम कर रहे थे और उन्हें महसूस नहीं हुआ लेकिन उन्होंने कहा कि वे 1 अणे मार्ग स्थित पहली मंजिल पर बैठे हुये थे। उन्होंने कहा कि फिर भी सभी जगहों से किसी प्रकार के नुकसान या क्षति के संबंध में रिपोर्ट प्राप्त किया जा रहा है। मुख्यमंत्री ने कहा कि जहाॅ तक बाढ़ राहत का प्रश्न है, बाढ़ राहत कार्य पूरी मुस्तैदी के साथ चलाया जा रहा है। मुख्य सचिव ने पुनः विडियो काॅन्फ्रेंसिंग के जरिये सभी जिलाधिकारियों को निर्देश दिया है। उन्होंने कहा कि कुछ बाढ़ राहत शिविरों में सुबह नाश्ते का प्रबंध नहीं था। उन्होंने कहा कि आपदा के समय ही यह निर्धारित कर दिया गया है कि दिन और रात में भोजन के अतिरिक्त सुबह के नाश्ते में फूला हुआ चना या चूड़ा इत्यादि जो भी उपलब्ध हो, दिया जाना चाहिये।

मुख्यमंत्री ने कहा कि उन्होंने पूर्व में ही कहा था कि जो नियमित राहत कैम्प चलेंगे, उसमें पत्तल के स्थान पर स्टील के बर्तन में खिलाना है। जो भी राहत शिविर में आयेंगे, उन्हें स्टील का बर्तन उपलब्ध कराया जाय और इसके लिये मुख्यमंत्री राहत कोष से प्रावधान कर दिया गया है। उन्होंने कहा कि राहत शिविरों में जो न्यूनतम आवश्यकता है, उसके अनुरूप वस्त्र भी दिया जाय।

मुख्यमंत्री ने कहा कि गंगा नदी का जलस्तर घट रहा है। उन्होंने कहा कि जगह- जगह चूॅकि मुख्य गंगा नदी में ही जलस्तर बढ़ा था और पानी अप स्ट्रीम से आ रहा था। उन्होंने कहा कि एक-एक चीज पर नजर है और जहाॅ से आबादी निष्कासन करना है, किया जा रहा है और पूरी मुस्तैदी से राहत शिविर चलाये जा रहे हैं। एक-एक चीज की जानकारी ली जा रही है और क्षेत्रीय पदाधिकारियों के साथ मुख्य सचिव नियमित समीक्षा कर रहे हैं।