बिहारियों का कुछ खास अंदाज-ए-बयां

2238
0
SHARE

पटना: बिहार के लोग जितने मस्त होते है, उतनी ही मस्त होती है उनकी भाषा। भावनाओं को प्रस्तुत करने का उनका अंदाज निराला होता है। देश के अन्य भागों में उसकी कॉपी कर मनोरंजन किया जाता है। लेकिन यह बिहार वासियों की जिंदादिली ही है कि वे बुरा नहीं मानते।

फेसबुक व व्हाट्सएप आदि सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर बिहारियों की बोलचाल के अंदाज पर कमेंट्स भरे पड़े हैं। आइए एक नजर डालते हैं बिहारियों की आपसी बातचीत में आने वाले, सोशल मीडिया पर वायरल, ऐसे ही कुछ मनोरंजन वाक्यों पर……….

बलवा काहे नहीं कटवाते हो।
मिज़ाज लहरा दिया।
तनी-मनी तरकारी दे दो।
अभरी गेंद ऐने आया तो ओने बीग देंगे।
बिस्कुटिया चाय में बोर-बोर के खाओ जी।
छुच्छे काहे खाना खा रहे हो।
काम लटपटा गया है।
बड़ी भारी है-दिमाग में कुछो नहीं ढूंक रहा है।
बदमाशी करबे त नाली में गोत देबो।
सत्तू घोर के पी लो।
तखनिए से ई माथा खराब कैले है।
अऊर सुनिये….
बरसतवा में छतवा चुवे लगता है मरदे..
नरभसाइये मत ।
मार-मार के भुरकुस छोड़ा देंगे।
कपड़वा पसार दो।
ए मरदे, ई का कह रहे है ?
जादे बोलियेगा तो मुंहवे नोच लेंगे।

सोशल मीडिया पर ऐसी और भी कई भावाभियक्तियां हैं जिनके लिए बिहार में खास शब्द प्रयोग में लाए जाते हैं। बिहार के लोगों की भाषा में कहें तो….

हमलोग के यहां Idiot नहीं बकलोल होता है।
हमलोग कटने पे बोरोलीन लगाते हैं, क्योंकि Dettol से परपराने लगता है।
हमलोग जान से नहीं मारते है, मार के मुआ देते हैं।
हमलोग गला दबाते नहीं नट्टी टीप देते है।
हमलोग Awesome काम नहीं करते, गर्दा उड़ा देते हैं।
हमलोग Tension में नहीं आते, बस हदस जाते हैं।
हमलोग का Bad day नहीं होता, बस जत्रा खराब होता है।
हमलोग का कपड़ा धोया नहीं फींचा जाता है।
हमलोग ताकत नहीं बरियारी दिखाते है।
हमारे लिए ट्रेन नहीं चलती खुल जाती है।