बिहार एसटीएफ ने चार कुख्यात अपराधियों को किया गिरफ्तार

335
0
SHARE

लखीसरायः बिहार एसटीएफ को बड़ी सफलता हाथ लगी है. एसटीएफ SOG-1 और लखीसराय पुलिस ने संयुक्त रूप से कार्रवाई करते हुए चार कुख्यात अपराधियों को गिरफ्तार किया है. बताया जा रहा है कि इन चारों अपराधियों ने एसटीएफ पर एके 47 से फायरिंग की थी. एसटीएफ ने इन चारों कुख्यात अपराधियों को झारखंड के दुमका से गिरफ्तार किया है. एसटीएफ अपराधियों को अपने साथ लेकर बिहार पहुंच गई है. चारों अपराधी बड़हिया प्रखंड के जैतपुर गांव के रहने वाले हैं.

चारों अपराधी टावर कंपनी में कर रहे थे मजदूरी

बिहार एसटीएफ ने गुप्त सूचना के आधार पर झारखंड के दुमका जिले के शिकारीपाड़ा थाना क्षेत्र के सोनाढाब गांव में छापेमारी कर इन चार अपराधियों को गिरफ्तार किया है. बताया जा रहा है कि जैतपुर गांव का रहने वाला फरार अपराधी सोनाढाबा गांव में जियो कंपनी के टावर लगाने का काम कर रहा था. इसी काम में ये सभी अपराधी मजदूर बनकर काम करने लगे. गिरफ्तार अपराधियों में कुख्यात मारकण्डे पांडेय, भरत सिंह उर्फ भरथा, अमित उर्फ लकड़ा और मुनचुन सिंह शामिल हैं. इन सभी अपराधियों ने बीते 17 फरवरी को जिले के जैतपुर दियारा में एसटीएफ और जिला पुलिस पर एके 47 से फायरिंग की थी. एसटीएफ ने इनके पास से हथियार भी बरामद किए है. गिरफ्तार अपराधी मारकण्डे पांडेय की निशानदेही पर जैतपुर गांव में उसके घर मेें छापेमारी कर जमीन के अंदर छुपाकर रखे गए एक कार्बाइन के साथ देशी कट्टा के अलावा मैगजीन भी बरामद किया गया है.

दुमका पुलिस को नहीं लगी भनक

सूत्रों के मुताबिक बिहार एसटीएफ के द्वारा की गई इस कार्रवाई की सूचना दुमका पुलिस को भी नहीं दी गई. चारों अपराधियों को गिरफ्तार कर अपने साथ बिहार ले जाने के बाद दुमका पुलिस को इसकी भनक लग पायी. दुमका पुलिस को यह सूचना मिली कि चारों मजदूरों का अपहरण नक्सलियों ने कर लिया है जिससे दुमका पुलिस की नींद हराम हो गई.

17 फरवरी को हुई थी एसटीएफ और अपराधियों में मुठभेड़

बीते 17 फरवरी को लखीसराय जिले के जैतपुर दियारा में एसटीएफ और अपराधियों के बीच घंटों मुठभेड़ हुई थी. इस मुठभेड़ में कई अपराधी भी घायल हुए थे. इस दौरान पुलिस ने भारी संख्या में हथियार बरामद किया था. पुलिस ने एक कार्बाइन, एक रायफल, AK 47 की दो लोडेड मैगजीन, देशी कट्टा सहित अन्य हथियार बरामद किया था.