बिहार के अतिथि शिक्षकों ने सामूहिक अवकाश पर रहकर किया शिक्षा मंत्री के आवास का घेराव

156
0
SHARE

पटना – बिहार राज उच्चतर माध्यमिक अतिथि शिक्षक संघ के बैनर तले आज संघ के प्रदेश अध्‍यक्ष नरेंद्र कुमार और उप संरक्षक बबन यादव के नेतृत्‍व में बिहार के शिक्षा मंत्री कृष्‍णानंदन वर्मा के आवास का घेराव किया गया। इस दौरान प्लस टू अतिथि शिक्षकों की सेवा नियमित करते हुए नियोजित शिक्षक के पद पर समायोजन की मांग को लेकर पूरे बिहार में कार्यरत 4203 अतिथि शिक्षकों ने सामूहिक अवकाश पर रहकर मंत्री को उनके आवास पर सदन जाने से रोका और शिक्षा मंत्री व बिहार सरकार के खिलाफ जमकर नारे लगाये।

बाद में मंत्री की ओर वार्ता की पहल पर प्रदेश अध्‍यक्ष नागेंद्र कुमार के नेतृत्‍व संघ के पांच सदस्‍यीय प्रतिनिधिमंडल ने कृष्‍णनंदन वर्मा से मुलाकात की और अपनी मांगों को उनके समक्ष रखा। इस वार्ता के दौरान मंत्री ने प्रतिनिधिमंडल को आश्‍वासन दिया कि राज्‍य के सभी प्‍ल टू कार्यरत अतिथि शिक्षकों की सेवा 60 वर्ष नियमित करते हुए नियोजन में समायोजन कर सेवा में रहते हुए दक्षता परीक्षा का मौका प्रदान करने पर विचार करेंगे। साथ ही आज मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार से इस विषय पर वे चर्चा भी करेंगे।

शिक्षा मंत्री ने कहा कि विद्यालयों के प्राचार्यों द्वारा गलत रूप से अटेंडेंस काटने का जो आरोप और मार्च से अभी तक वेतन, अतिथि शिक्षकों को एलॉटमेंट निर्गत नहीं होने के कारण प्राप्‍त नहीं हुआ है। विभाग से बात कर इसका समाधान अविलंब निकाला जायेगा। शिक्षा मंत्री ने संघ को आश्‍वस्‍त किया है कि हमारे पास प्‍लस टू विद्यालय में विज्ञान और अंग्रेजी के शिक्षक नियोजित हैं ही नहीं। इसलिए आपलोग सेवा में बने रहेंगे। यह आश्‍वासन मिलने के बाद संघ द्वारा शिक्षा मंत्री के आवास का घेराव खत्‍म हुआ, लेकिन संघ की ओर से प्रदेश अध्‍यक्ष नागेंद्र कुमार ने कहा कि शिक्षा मंत्री द्वारा संघ को दिए गए आश्‍वासन के बाद एक सप्‍ताह तक इंतजार करेगी। अगर सरकार समय रहते अपने वादों से मुकरती है और समय सीमा के अंदर कोई ठोस निर्णय नहीं लेती है, तो संघ के पूरे 4203 कार्यरत अतिथि शिक्षकों को आमरण अनशन के लिए विवश होना होगा। इसकी जिम्‍मेवारी प्रदेश सरकार की होगी।

शिक्षा मंत्री के आवास के घेराव के दौरान वरीय नेता अजीत कुमार लोहिया, मोना यादव, पुष्‍पा कुमारी, अनुराधा, रविरंजन कुमार, रबिना शर्मा, दीपक कुमार, राहुल कुमार, खुशबू सिन्‍हा, माधुरी कुमारी, राघव जी, रूद्रनारयण यादव, मो. साजिद गफूर, मो. सकील अहमद, साबिर आलम, भूपेंद्र यादव, रवि कुमार इत्‍यादि सभी 4203 अतिथि शिक्षक मौजूद रहे।