बिहार के पंचायतीराज, स्थानीय निकाय, ज्यूडीसियल एवं आउट सोर्सिंग में आरक्षण नीतीश कुमार की देन : आरसीपी सिंह

360
0
SHARE

पटना – जदयू के दलित-महादलित प्रमंडलीय सम्मेलन के क्रम में आज सहरसा प्रमंडल की बारी थी। मवेशी हाट मैदान, सिंहेश्वर स्थान, मधेपुरा में आयोजित भव्य सभा में जदयू के राष्ट्रीय महासचिव व जदयू संसदीय दल के नेता आरसीपी सिंह के नेतृत्व में कई वरिष्ठ नेता मौजूद रहे, जिनमें पार्टी के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष सह मंत्री ऊर्जा विभाग विजेंद्र प्रसाद यादव, लघु सचिाई एवं आपदा प्रबंधन, मंत्री दिनेश चन्द्र यादव, राष्ट्रीय महासचिव सह विधायक श्याम रजक, भवन निर्माण मंत्री महेश्वर हजारी, परिवहन मंत्री संतोष निराला, अनुसूचित जाति-जनजाति कल्याण मंत्री रमेश ऋषिदेव, पूर्व मंत्री सह विधान पार्षद अशोक चौधरी, विधायक रत्नेश सदा विधायक सह जदयू दलित प्रकोष्ठ के अध्यक्ष रवि ज्योति, विधान पार्षद श्री ललन सर्राफ, पूर्व विधान पार्षद रवीन्द्र तांती, जदयू दलित-महादलित प्रकोष्ठ के संगठन प्रभारी श्री विद्यानंद विकल आदि प्रमुख हैं।

सम्मलेन को संबोधित करते हुए आरसीपी सिंह ने कहा कि जिन्होंने दलितों-महादलितों को कभी आरक्षण ही नहीं दिया उनके द्वारा यह कह कर भ्रम पैदा करने की कोशिश की जा रही है कि मुख्यमंत्री श्री नीतीश कुमार बीजेपी के साथ मिलकर आरक्षण को समाप्त कर देंगे। लेकिन सच्चाई यह है कि नीतीश कुमार ने वर्ष 2005 में अपनी सरकार बनने के बाद इस समाज को एक से एक आरक्षण देने का काम करने के साथ ही पंचायतीराज, स्थानीय निकाय, ज्यूडीसियल एवं आउट सोर्सिंग में भी आरक्षण लागु करवाये। आरसीपी सिंह ने आगे कहा कि बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ऐसे नेता हैं जो संविधान में जिक्र किये चीजों का न सिर्फ सम्मान करते हैं बल्कि उसपर कदम भी उठाते हैं जिससे समाज के गरीब-गुरबों का भला हो।

बिहार सरकार के मंत्रियों विजेंद्र प्रसाद यादव, दिनेश चन्द्र यादव, महेश्वर हजारी एवं संतोष निराला, रमेश ऋषिदेव के साथ ही राष्ट्रीय महासचिव सह विधायक श्याम रजक और पूर्व मंत्री सह विधान पार्षद अशोक चौधरी ने भी सम्मलेन को संबोधित करते हुए विस्तार से चर्चा करते हुए अपनी-अपनी बातें रखी।

प्रदेश महासचिव सह मुख्यालय प्रभारी अनिल कुमार ने बताया कि मधेपुरा के बाद अब 29 अक्टूबर को इंदिरा गांधी स्टेडियम, पूर्णिया (पूर्णिया प्रमंडल), 30 अक्टूबर को डुमरामा हाई स्कूल मैदान, अमरपुर, बांका (भागलपुर प्रमंडल), 31 अक्टूबर को गांधी मैदान, गया (मगध प्रमंडल), 3 नवंबर को राजीव गाँधी मैदान, विक्रमगंज, रोहतास (पटना प्रमंडल) तथा 4 नवंबर को पोलो मैदान, मुंगेर (मुंगेर प्रमंडल) में सम्मेलन होना सुनिश्चित है।