बिहार में शराबबंदी का निर्णय वापस नहीं होगा : नीतीश कुमार

438
0
SHARE

पटना: बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने मंगलवार को धनबाद के न्यू टाउन हॉल में नारी संघर्ष मोरचा को शराबबंदी के लिए संबोधित किया। मुख्यमंत्री ने कहा कि अगर झारखंड सरकार शराबबंदी के लिए बिहार मॉडल को लागू नहीं करना चाहती है, तो गुजरात मॉडल ही लागू कर दे।

उन्होंने कहा कहा कि गुजरात में वर्षों से शराबबंदी है। शराबबंदी का न तो गुजरात मॉडल है और न ही बिहार मॉडल। वास्तव में यह बापू का मॉडल है। साथ ही मुख्यमंत्री ने कहा कि अगर भाजपा सरकार ऐसा नहीं कर पाती है, तो आनेवाले दिनों में बाबूलाल मरांडी यहां शराबबंदी लागू करेंगे।

बिहार की तरह झारखंड में पूर्ण शराबबंदी पर आयोजित कन्वेंशन को बतौर मुख्य अतिथि नीतीश कुमार ने यह बातें कहीं।

सीएम नीतीश ने आगे कहा कि पड़ोसी और भाई होने के नाते बिहार में पूर्ण शराबबंदी लागू करने से पहले झारखंड, बंगाल और यूपी के सीएम को पत्र लिख कर सहयोग की अपील की थी। लेकिन, झारखंड सरकार ने बिहार की सीमा से सटे जिलों में लाइसेंसी शराब दुकानों की संख्या में 25 से 50 प्रतिशत तक की बढ़ोतरी कर दी।

आपको बता दें कि झारखंड के मुख्यमंत्री रघुवर दास ने कहा था कि झारखंड कभी बिहार मॉडल नहीं लागू करेगा। नीतीश ने कहा कि मैं भी नहीं चाहता कि बिहार मॉडल लागू करें। आप गुजरात मॉडल ही लागू कर दें। गुजरात मॉडल लागू कर ही यहां बरबाद हो रहे परिवार को बचा लें। नीतीश कुमार ने कहा कि बिहार में शराबबंदी का निर्णय वापस नहीं होगा। इसके लिए चाहे जो हो।

इस अवसर पर झारखंड के पूर्व मुख्यमंत्री बाबू लाल मरांडी भी मौजूद थे।