बेलगाम अपराधियों ने भाजपा नेता अशोक जायसवाल को गोलियों से भूना

786
0
SHARE

पटना: बिहार में राजनीतिक हत्‍याएं थमने का नाम नहीं ले रहा है। इस बार पटना स्थित दानापुर थाने के गोलापर मुहल्ले में बुधवार की शाम अपराधियों ने भाजपा नेता अशोक जायसवाल को गोली मार कर हत्या कर दी।

अशोक जायसवाल भाजपा के मानवाधिकार प्रकोष्ठ के प्रदेश कोषाध्यक्ष थे। अपराधियों ने घर के सामने ही उन्हें गोली मार दी। घायल अशोक को गंभीर हालत में सगुना मोड स्थित एक निजी अस्पताल में भरती कराया गया, जहां डॉक्टर ने मृत घोषित कर दिया।

घटना के विरोध में भाजपा ने गुरुवार को दानापुर बंद बुलाया है। पुलिस ने दो भाइयों को हिरासत में लिया है। मृतक के बेटे गुंजन ने रोते हुए बताया कि शाम करीब छह बजे पिताजी घर के सामने ज्ञानी राय के मकान में संजय की थोक चावल दुकान में बैठे थे़। इसी दौरान आधा दर्जन अपराधियों ने उनके सीने व पेट में चार गोलियां मार दीं। इसके बाद सभी अपराधी पिस्टल लहराते हुए भाग गये।

पिताजी खून से लथपथ होकर वहीं गिर पड़े। स्थानीय लोगों ने उठा कर तुरंत सगुना मोड़ स्थित एक निजी अस्पताल में ले गये, लेकिन उन्होंने दम तोड़ दिया। घटना की सूचना मिलते ही एसएसपी मनु महाराज, सिटी एसपी सत्य प्रकाश व डीएसपी राजेश कुमार घटनास्थल व सगुना मोड़ निजी अस्पताल पहुंच कर घटना की जानकारी ली़

एसएसपी मनु महाराज ने कहा कि हत्यारों की गिरफ्तारी के लिए पुलिस टीम गठित कर छापेमारी की जा रही है। जल्द ही हत्यारों को गिरफ्तार कर लिया जायेगा।

इस घटना के बाद गोलापर मुहल्ले में तनाव व्याप्त हो गया है़ घटना की सूचना मिलने के बाद गोलापर को पुलिस छावनी में तब्दील कर दिया।

इधर केंद्रीयच ग्रामीण विकास राज्यमंत्री रामकृपाल यादव, विधायक आशा सिन्हा व संजीव चौरिसया, पूर्व विधान पार्षद गंगा प्रसाद, हरेंद्र प्रताप समेत कई भाजपा नेताओं ने पहुंच कर मृतक की पत्नी किरण देवी व परिजनों को सांत्वना दी़।

रामकृपाल यादव ने ट्वीट कर इस घटना पर दुख जताया है और प्रदेश सरकार पर हमला बोला है। उन्‍होंने ट्वीट किया है- ”दानापुर भाजपा के कर्मठ नेता अशोक जायसवाल की अपराधियों ने गोली मार कर हत्या कर दी है। मेरी गहरी संवेदना पूरे परिवार के साथ हैं। अपराधी अब बिहार में बेलगाम हो चुके हैं, जंगलराज आ चुका है। अशोक जायसवाल जी आपकी कमी को भरा नहीं जा सकता है।’

गौरतलब है कि इसी साल फरवरी में भाजपा के दो नेताओं की हत्या कर दी गई थी। छपरा में भाजपा नेता केदार सिंह की हत्या के बाद भोजपुर में इसी पार्टी के नेता विशेश्वर ओझा की गोलीमार कर हत्या कर दी गई थी।