भारत के स्वतंत्रता संग्राम के मुस्लमान क्रांतकारी जिन्हे भुला दिया गया — पीर अली खान

1310
0
SHARE

पटना (बिहार) में पेशे से जिल्दसाज पीर अली क्रांतिकारियों को अंग्रेजों की गतिविधियों का गुप्त संदेश देते थे। पटना के तत्कालीन कमिश्नर विलियम टेलर ने खान और उनके साथियों को गिरफ्तार कर लिया। अंग्रेजी हुकूमत ने 7 जुलाई, 1857 को पीर अली के साथ घासिता, खलीफा, गुलाम अब्बास, नंदू लाल उर्फ सिपाही, जुम्मन, मदुवा, काजिल खान, रमजानी, पीर बख्श, वाहिद अली, गुलाम अली, महमूद अकबर और असरार अली को बीच सड़क पर फांसी पर लटका दिया था।

पीर अली खान

1857 की क्रांति ने बिहार को भी प्रभावित किया। यद्यपि यह सत्य है कि यहाँ आगरा, मेरठ तथा दिल्ली की भाँति क्रांति का जोर नहीं था, तथापि बिहार के कई क्षेत्रों में क्रांति ने भीषण रूप धारण कर लिया था। सैकड़ो ब्रितानियों को यहाँ मौत के घाट उतार दिया गया।

गया, छपरा, पटना, मोतिहारी तथा मुजफ्फरपुर आदि नगरों में क्रांति ने भीषण रूप धारण कर लिया। ब्रितानियों ने दानापुर में एक छावनी की स्थापना की, ताकि बिहार पर नियंत्रण स्थापित किया जा सके। स्वदेशियों की सातवीं, आठवीं तथा चालीसवीं पैदल सेनाएँ भीं, जिन पर नियंत्रण स्थापित करने के लिए एक विदेशी कंपनी और तोप सेना रखी गई थी।

इसका प्रधान सेनापति मेजर जनरल लायड था। टेलर पटना का कमिश्नर था, जो बहुत दूरदर्शी था। उसमें प्रशासनिक क्षमता अत्यधिक थी। उसका यह मानना था कि पटना के मुसलमान भी इस क्रांति में हिंदुओं के साथ भाग लेंगे। पटना में बहावी मुसलमानों की संख्या बहुत अधिक थी।
अतः टेलर ने वहाबी मुस्लिम नेताओं पर कड़ी नज़र रखना प्रारंभ कर दिया। पटना के नागरिकों ने कुछ वर्ष से ही क्रांति की तैयार शुरू कर दी थी, इसके लिए संगठन स्थापित किए जा चुके थे, जिसमें शहर के व्यवसायी एवं धनी वर्ग के लोग सम्मिलित थे।

पटना के कुछ मौलवियों का लखनऊ के गुप्त संगठनों से पत्र व्यवहार चल रहा था। उनका दानापुर के सैनिकों से भी संपर्क हो चुका था। ऐसा प्रतीत होता है कि पुलिस वाले भी क्रांतिकारियों का सहयोग कर रहे थे। दानापुर के सैनिक भी वृक्षों के नीचे गुप्त बैठकें किया करते और क्रांति की योजना बनाते थे।
दानापुर के सैनिक मेरठ सैनिकों के असन्तोष के बारे में जानते थे, परन्तु वे अवसर की प्रतिक्षा में थे। टेलर को पता चला कि दानापुर के सैनिकों में असन्तोष व्याप्त है, तो उसने विस्फोट होने से पूर्व ही उसे कुचलना उचित समझा। इसके लिए उसने तुरन्त प्रभावशाली कदम उठाए, जिसके कारण वहाँ क्रांति भीषण रूप धारण नहीं कर सकी। हाँ, तीन जुलाई को एक छोटी सी क्रांति अवश्य हुई, जिसे ब्रितानियों ने सिक्ख सैनिकों की सहायता से कुचल दिया।

तिरहुत ज़िले के पुलिस जमादार वारिस अली पर ब्रितानियों को संदेह हुआ और उन्हें तुरंत गिरफ़्तार कर लिया गया। उसके घर छापा डाला गया, जिसमें आपत्तिजनक काग़ज़ात प्राप्त हुए। इस अभियोग में उन्हें फाँसी पर लटका दिया गया। तत्पश्चात् अनेक क्रांतिकारियों को बंदी बनाकर जेल में डाल दिया गया। नागरिकों के हथियार लेकर चलने पर प्रतिबंध लगा दिया गया।

रात को नौ बजे घर से निकलने पर रोक लगा दी गई और कर्फ्यू लगा दिया गया। परिणाम स्वरूप क्रांतिकारी रात्रि को मीटिंग नहीं बुला सकते थे। बिहार के ही एक प्रमुख मुस्लिम क्रांतिकारी परी अली के बारे में बहुत कम लोग जानते हैं। वे सिर्फ़ मुसलमानों के ही नेता नहीं थे, अपितु उन्हें समस्त क्रांतिकारियों का विश्वास एवं समर्थन प्राप्त था।

पीर अली लखनऊ के रहने वाले थे। उनके बारे में विशेष जानकारी तो प्राप्त नहीं होती, पर इतना अवश्य पता चलता है कि वे एक साधारण व्यक्ति थे, जिनमें देशप्रेम की भावना कूट-कूट कर भरी हुई थी। व्यक्ति की महानता उसके वंश ऐश्वर्य आदि से नहीं, अपितु उनकी निष्ठा से आँकीं जाती है। हमारी दृष्टि में एक साधारण व्यक्ति, जिसमें देश भक्ति भावना हो, देश के लिए मर मिटने की लालसा हो, वह व्यक्ति प्रकांड पंडितों एवं करोड़पतियों से हज़ार गुना बेहतर है।

पीर अली लखनऊ से पटना आकर बस गए। आजीविका के लिए उन्होंने पुस्तक ब्रिकी का व्यवसाय प्रारंभ किया। वे चाहते तो अन्य काम भी कर सकते थे। पर उनका मुख्य उद्देश्य लोगों में क्रांति संबंधित पुस्तकों का प्रचार करना था। वे पहले पुस्तक पढ़ते और इसके बाद दूसरों को पढ़ने के लिए देते थे। वह पुरुष धन्य है, जो अपने ज्ञान को अपने तक ही समिति नहीं रखकर समस्त जनता को लाभान्वित करता है।

पीर अली भारत माता को दासता की बेड़ियों से मुक्त करनवाना चाहते थे। उनका मानना था कि गुलामी से मौत ज्यादा बहेतर होती है। उनका दिल्ली तथा अन्य स्थानों के क्रांतिकारियों के साथ बहुत अच्छा सम्पर्क था। वे उनसे समय-समय पर निर्देश प्राप्त करते थे। जो भी व्यक्ति उनके सम्पर्क में आता, वह उनसे प्रभावित हुए बिना नहीं रहता था।

यद्यपि वे साधरण पुस्तक विक्रेता थे, तथापि उन्हें पटना के विशिष्ट नागरिकों का समर्थन प्राप्त था। क्रांतिकारी परिषद् पर उनका अत्यधिक प्रभाव था। उन्होंने धनी वर्ग के सहयोग से अनेक व्यक्तियों को संगठित किया और उनमें क्रांति की भावना का प्रसार किया। लोगों ने उन्हें यह आश्वासन दिया कि वे ब्रिटिशी सत्ता को जड़मूल से नष्ट कर देंगे। जब तक हममें रक्त की धारा प्रवाहित होती रहेगी, हम फिरंगियों का विरोध करेंगे, लोगों ने कसमे खाईं।
टेलर ने पटना में दमन चक्र चलाना शुरू किया, तो पीर अली ने विद्रोह कर दिया। उनके स्वभाव में अद्भूत तीव्रता तथा उतावलापन था। वे देशवासियों का अपमान सहन नहीं कर सकते थे। अतः उन्होंने जनता को सरकार के विरूद्ध संघर्ष करने की प्रेरणा दी और स्वंय संग्राम में कूद पड़े।

उन्होंने स्वयं कहा था, “मैं समय से पहले ही विद्रोह कर उठा था। ” सरकार ने पीर अली को गिरफ्तार कर लिया और उन पर मुकदमा चलाकर उन्हें मृत्यु दण्ड की सजा दी गई। पीर अली ने निडर होकर हंसते-हसंते मृत्यु को आलिंगन कर लिया।

“हाथों में हथकड़ियाँ, बाँहों में रक्त की धारा, सामने का फंदा, पीर अली के मुख पर वीरोचित मुस्कान मानों वे सामने कहीं मृत्यु को चुनौती दे रहे हों। महान शहीद ने मरते-मरते कहा था, “तुम मुझे फाँसी पर लटका सकते हों, किंतु तुम हमारे आदर्श की हत्या नहीं कर सकते। मैं मर जाऊँगा, किंतु मेरे रक्त से सहस्त्रों योद्धा जन्म लेंगे और तुम्हारे साम्राज्य को नष्ट कर देंगे।” कमिश्नर टेलर ने लिखा है कि पीर अली ने मृत्यु दंड के समय बड़ी वीरता तथा निडरता का परिचय दिया।

पीर अली का बलिदान व्यर्थ नहीं गया। उनकी मृत्यु के बाद 25 जुलाई को दानापुर की देशी पलटनों ने अपने आप को स्वतंत्र घोषित कर दिया। दानापुर के सैनिकों ने जगदीशपुर के बाबू कुंवरसिंह को अपना नेता स्वीकार कर लिया। यद्यपि कुंवरसिंह वृद्ध हो गए थे, तथापि उनमें बहुत जोश था। उनमें अद्भुत सैनिक शक्ति थी। वृद्ध कुंवरसिंह ने क्रांतिकारियों का नेतृत्व स्वीकार कर लिया और यह प्रमाणित कर दिया कि बिहार की भूमि में अद्भुत शक्ति है। यहाँ का एक वृद्ध भी ब्रितानियों को ललकार सकता है और उनके दाँत खट्टे कर सकता है।

ऐसे गुमनाम शहीदो को श्रद्धांजलि देने वाले आज बहुत कम हैं मगर जिन्होंने देश के लिए अपने जान की आहुति दे दी उनको अपना मक़सद प्यारा था ना की नाम और शोहरत।