मधेपुरा के बैंकों में अब नोट के बदले मिल रहे सिक्के

485
0
SHARE

मधेपुरा: देशभर में नोटबंदी के बाद रुपये बदलने और निकालने के लिए घमासान जारी है। एसबीआई की शाखाओं और एटीएम को छोड़कर अन्य बैंकों में रुपये बदलने का काम लगभग ठप हो गया है। कैश नहीं रहने के कारण अन्य बैंकों की एटीएम भी काम नहीं कर रहा है।

बिहार के मधेपुरा जिला में खाते में जमा राशि की निकासी करने वाले ग्राहकों की परेशानी यह है कि उन्हें बैंक से दस और बीस रुपये के नोट के साथ-साथ सिक्के दिये जा रहे हैं।

बैंक सूत्रों की मानें तो जिले को अगर जल्द कैश उपलब्ध नहीं हुआ तो ग्राहकों को करेंसी नोट के बदले चिल्लरों (फुटकर सिक्के) से भुगतान की प्रक्रिया पूरी करने की बाध्यता उत्पन्न हो सकती है। हालांकि कैश में बड़े नोटों की कमी के कारण ग्राहकों को अधिकतर दस और बीस रुपये के नोट ही दिये जा रहे हैं।

कुछ बैंकों में उपलब्ध कैश के आधार पर कुछ बड़े नोट भी मिल रहे हैं। वैसे एसबीआई शाखाओं को छोड़ अन्य बैंक शाखाओं में अपेक्षाकृत ग्राहकों की भीड़ फिलहाल कम हो गयी है। लेकिन एटीएम में ग्राहकों की भीड़ कम नहीं हो रही है। शुक्रवार को भी शहर की एटीएम में भारी भीड़ देखी गयी।

सुबह लगभग साढ़े दस बजे तक एसबीआई की एटीएम को छोड़ लगभग सभी बैंकों के एटीएम बंद मिले। एसबीआई की एटीएम में लोग रुपये निकालने के लिए लंबी लाइन में दिन भरे लगे रहे।

ग्राहकों का कहना है कि छोटे नोट के बंडल और सिक्के की थैली घर तक ले जाने में दिक्कत होती है। सबसे बड़ी समस्या यह है कि ट्रेन या फिर बस से शहर से बाहर जाने में छोटे नोट का बंडल और सिक्के की थैली ले जाना सबसे बड़ी समस्या बन गयी है।