महाप्रबंधक पूर्व मध्य रेल एकादस की टीम ने एक दोस्ताना क्रिकेट मैच में दानापुर मंडल को हराया

415
0
SHARE

पटना: आज खगौल स्थित जगजीवन स्टेडियम में महाप्रबंधक पूर्व मध्य रेल एकादस तथा  दानापुर मंडल रेल प्रबंधक एकादस टीम के साथ एक दोस्ताना क्रिकेट मैच का आयोजन किया गया जिसमें महाप्रबंधक पूर्व मध्य रेल श्री डी के गायेन की कप्तानी में पूर्व मध्य रेल की टीम ने शानदार बल्लेबाजी करते हुए मंरेप्र एकादस को 6 विकेट से हरा कर कप पर कब्जा कर लिया।

टॉस जीत कर दानापुर मंडल ने मंरेप्र की कप्तानी में  पहले बल्लेबाजी करने का फैसला किया। मंरेप्र एकादस की पुरी टीम निर्धारित 20 ओवरों में 118 रन बना कर आउट हो गयी। जवाब में शानदार बल्लेबाजी  का नमूना पेश करते हुए महाप्रबंधक एकादस की टीम ने डीआरएम एकादस को 18.3 ओवर में 119 रन बनाते हुए 6 विकेट से हरा दिया । महाप्रबंधक की टीम ने शानदार बल्लेबाजी, गेंदबाजी तथा फील्डिंग का नमूना पेश किया।

इस अवसर पर मैन आफ दि मैच  मंरेप्र दानापुर श्री आर के झा  जिन्होंने 32 रन बनाये तथा एक विकेट लिया तथा श्री सत्येंद्र कुमार , सीएसटीई /मुख्यालय , जिन्होंने 20 रन बनाये तथा 3 विकेट लिया, घोषित किये गए।

इन के अतिरिक्त  महाप्रबंधक की टीम में  अपर महाप्रबंधक श्री टी पी सिंह, श्री ए के चंद्रा/सीएमई,  दिलीप कुमार, वरीय मंडल यांत्रिक अभियंता/ मुगलसराय, श्री नितिन कुमार, मंडल यांत्रिक अभियंता/ सोनपुर, ब्रजेश यादव, सीनियर डीएसटीई/सोनपुर,सत्य नारायण, ओमप्रकाश (सभी मुख्यालय से) शामिल थे। मैच के अम्पायर श्री मनोज कुमार , उप मुख्य कार्मिक अधिकारी/ राज. थे।

मंरेप्र की टीम में डीआरएम के अतिरिक्त अभिजीत कुमार, सि डीएफएम, पवन कुमार/ सि मं अभि, श्री एस जे झा,  डि सीई/कॉन, सि डीएसटीई एम के श्रीवास्तव, सि डीसीएम श्री पंकज कुमार, रविश कुमार, सुमित वत्स, विनीत कुमार,श्रवण कुमार आदि मंडल के शाखा अधिकारी थे।

इस अवसर पर  महिला कल्याण संगठन, हाजीपुर की सदस्याओं तथा महिला कल्याण संगठन, दानापुर मंडल की सदस्याओं के बीच 5 -5 ओवरों का एक प्रदर्शनी मैच भी खेला गया। इस मैच में मुख्यालय की टीम की कप्तान श्री मति शिबानी गायेन तथा दानापुर मंडल की टीम की कप्तान श्रीमती संगीत झा थीं। इस मैच में दानापुर की टीम ने निर्धारित 5 ओवरों में  48 रन बनाए। जिसे मुख्यालय की टीम ने एक ओवर शेष रहते 49 रन बनाकर जीत लिया।

इस अवसर पर सभी विजेताओं को कप तथा स्मारिका प्रदान किये गए। इस अवसर पर पूर्व मध्य रेल के अन्य उच्च अधिकारी तथा मंडल के शाखा अधिकारी भी थे।