महिला ने जिलाधिकारी आवास के समाने सड़क पर दिया बच्चे को जन्म

685
0
SHARE

सीतामढ़ी: बिहार के सीतामढ़ी जिला में स्थित डुमरा प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में शुक्रवार देर रात पहुंची एक गर्भवती महिला को भर्ती करने से इंकार कर दिया गया। उसे दूसरे अस्पताल जाने के लिए एंबुलेंस भी नहीं दिया गया। इसके बाद दूसरे अस्पताल के लिए पैदल ही निकली प्रसव पीड़ा से कराहती महिला ने जिलाधिकारी आवास के सामने सड़क पर ही बच्चे को जन्म दे दिया।

सर्द रात में बीच सड़क पर बच्चे के जन्म की जानकारी होने पर जिलाधिकारी ने अस्पताल कर्मियों को जच्चा-बच्चा को भर्ती करने का आदेश दिया। मामला फंसता देख अस्पताल ने जच्चा-बच्चा को बुलाकर भर्ती किया। हालांकि चिकित्सक अभी भी नदारद ही रहे।

मिली जानकारी के मुताबिक बीती रात एक गर्भवती महिला सुनैना को प्रसव पीड़ा होने पर परिजन उसे लेकर सीतामढ़ी के डुमारा पीएचसी पहुंचे। वहां चिकित्सक नहीं थे। ड्यूटी पर मौजूद अस्पताल कर्मियों ने महिला को भर्ती करने से इंकार कर दिया। उन्होंने अस्पताल में सुविधाओं के अभाव का बहाना बनाकर महिला को दूसरे अस्पताल जाने की सलाह दी। इसके लिए एंबुलेंस मांगने पर उसे भी उपलब्ध नहीं कराया।

सर्द रात में पीड़ा से कराहती महिला को अस्पताल कर्मियों ने इमरजेंसी में भी देखने से मना कर दिया। देर रात कोई सवारी नहीं मिलने के कारण वह किसी तरह पैदल ही दूसरे अस्पताल के लिए निकल पड़ी। लेकिन रास्ते में जिलाधिकारी आवास के सामने आते-आते उसका हौसला जवाब दे गया। उसने वहां सड़क पर ही बच्चे को जन्म दे दिया।

वहीं घटना की बाबत पूछने पर अस्पताल के चिकित्सक ने बताया कि महिला के गर्भ में बच्चा उल्टा था। इसलिए उसे दूसरे अस्पताल में रेफर किया गया था। जहां तक एंबुलेंस की बात है। अस्पताल में इसकी सुविधा नहीं है।