मुख्यमंत्री ने अरवल जिला में सात निश्चय की योजनाओं का किया निरीक्षण

1753
0
SHARE

पटना: मुख्यमंत्री श्री नीतीश कुमार ने अपने निश्चय यात्रा के 9वें चरण के प्रथम दिन शनिवार को अरवल जिला के कुर्था प्रखंड अन्तर्गत पिंजरावाँ पंचायत के चुलहनबिगहा गाँव पहुंचे और सात निश्चय की योजनाओं का सरजमीं पर क्रियान्वयन देखा। पिंजरावां पंचायत पहुंचकर मुख्यमंत्री सबसे पहले वहां के लोगों से मिले और हर घर नल का जल, हर घर शौचालय निर्माण, पक्की गली-नाली, हर घर बिजली लगातार योजनाओं का निरीक्षण किया।
मुख्यमंत्री ने ग्रामीणों से सरकार द्वारा चलाई जा रही योजनाओं के बारे में जानकारी भी लिया। उन्होंने गाँव के निरीक्षण के क्रम में कहा कि अरवल जिला में पहली बार देखा हूँ कि शौचालय, बिजली, नल-जल जिन घरों में उपलब्ध करा दिया गया है, उस पर घर के बाहर सही का सांकेतिक चिन्ह लगा दिया गया है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि विकसित बिहार के सात निश्चय की योजनाओं को हाल में लागू किया गया है इसलिये उसके कार्यान्वयन को देखना आवश्यक है ताकि उसमें आने वाली बाधाओं को दूर किया जायेगा। खुले में शौच से विभिन्न तरह की बीमारियाँ फैलती हैं एवं महिलाओं को काफी परेशानियाँ भी होती है। खुले में शौच से मुक्त होने पर 90 प्रतिशित बीमारियों में कमी आयेगी। यह कार्य लोहिया स्वच्छता अभियान के तहत कराया जा रहा है। मुख्यमंत्री ने कहा कि घरों और गाँवों में सात निश्चय के अन्तर्गत खुले में शौच से मुक्ति हेतु अब शौचालय निर्माण की चर्चा होेने लगी है। अभी कई वार्ड, पंचायत, प्रखंड तथा कुछ अनुमंडल भी खुले में शौच से मुक्त हो गये हैं। अरवल बहुत छोटा जिला है, मैं तो कहूँगा कि अरवल जिला को ही सबसे पहले बिहार में खुले में शौच से मुक्त करें। रोहतास एवं सीतामढ़ी जिला में खुले में शौच से मुक्त करने के लिए प्रतिस्पर्धा चल रही है। अरवल जिला को इस प्रतिस्पर्धा में भाग लेना चाहिए। इस वर्ष तक बिहार के सभी घरों मे बिजली पहुंचा दी जायेगी। चुल्हनबिगहा में विकसित बिहार के सात निश्चय के अन्तर्गत चार निश्चयों का कार्य पूरा हो गया है जिसमें शौचालय, बिजली, नल-जल, पक्की नली गली शेष तीन योजनाओं को लागू करने के लिए आप सभी लोगों का सहयोग आवश्यक है।

मुख्यमंत्री ने कहा की 1 अप्रैल 2016 से बिहार में शराबबंदी लागू हुई है, जिससे हमारा समाज शराब मुक्त हो गया है। कुछ व्यक्ति मादक पर्दाथों का सेवन करते हैं, जिससे उनका एवं समाज की स्थिति दयनीय हो जाती है। 21 जनवरी को मानव श्रृंखला बनाकर हमने विश्व को संदेश दिया है कि शराब के बंद होने से सभी क्षेत्रों में आशातीत सफलता मिली है। हमने निर्धारित 11 हजार कि0मी0 सड़कों पर 2 करोड़ व्यक्तियों को शामिल होने का लक्ष्य रखा था लेकिन इसमें 4 करोड़ से भी अधिक व्यक्तियों ने सहयोग किया। सड़कों पर एक लाइन लगना था लेकिन कही-कही तीन-तीन लाईनें स्वतः लग गई। शराब के सेवन से घरों की गाढ़ी कमाई नष्ट हो जाती थी, शराबबंदी होने से घर के मालिक अब सब्जी, दूध, मिठाई आदि लाकर परिवारों का भरण-पोषण कर रहे हैं और बच्चों की पढाई पर विशेष ध्यान दें रहे हैं। शराबबंदी होने से 10 हजार करोड़ की राशि बिहार को बचत हुई है। बिहार में सिलाई मशीन की बिक्री बढ़ गई है, इससे पता चलता है कि माता-पिता अपने बच्चों के लिए अधिक मात्रा में कपड़ों की सिलाई करा रहे हैं। शराबबंदी होने से छेना, गुलाब जामुन आदि मिठाइयों की बिक्री पहले से काफी बढ़ गई है। परिवार की सुविधा के लिए वे अब कई सामान खरीद रहे हैें और बच्चों की पढाई पर विशेष ध्यान दें रहे हैं। शराबबंदी होने से प्रेम और भाईचारा आपस में बढ़ गया है।
मुख्यमंत्री ने कहा कि महिलाओं को सर्वांगीण विकास के लिए बिहार सरकार की सभी सरकारी नौकरियों में 35 प्रतिशत आरक्षण दिया गया है, इसके अलावे न्यायिक सेवाओं में भी पिछड़े वर्गो को आरक्षण दिया गया है। विद्यार्थियों को उच्च शिक्षा एवं तकनीकी शिक्षा प्राप्त करने के लिए स्टुडेंट क्रेडिट कार्ड योजना चलाई गई है, जिसके तहत इच्छुक वि़द्यार्थियों को 4 लाख रूपये लोन की गांरटी सरकार द्वारा दी जाती है। नौकरी खोजने वाले युवकों के लिए मुख्यमंत्री निश्चय स्वयं सहायता भत्ता के तहत 2 साल तक 1000-1000 रूपये प्रतिमाह सहायता राशि प्रदान की जाती है। इसके साथ-साथ युवकों के कौशल विकास के लिए प्रत्येक प्रखंड में कौशल विकास केन्द्र खोला गया है, जहाँ कम्प्यूटर, भाषा ज्ञान, संवाद कौशल एवं व्यवहार कौशल आदि का प्रशिक्षण दिया जा रहा है। इन सभी योजनाओं का लाभ प्राप्त करने के लिए प्रत्येक जिला में जिला निबंधन-सह-परामर्श केन्द्र खोला गया है। बिहार में युवकों की संख्या सर्वाधिक है, जो पढे़गा वो आगे, बढ़ेगा और उसका विकास की तेज गति से होगा, इससे बिहार में उ़द्योग-धंधें बढेंगे और लोगों को रोजगार मिलेगा। बिहार में विकसित बिहार के सात निश्चय को लागू करने के लिए आप सभी का सहयोग अति आवश्यक है।

इस अवसर पर विधायक श्री सत्यदेव सिंह, विधायक श्री रविन्द्र सिंह ने भी सभा को संबोधित किया। मंच संचालन जिलाधिकारी अरवल श्री आलोक रंजन घोष ने किया। इस अवसर पर मुख्य सचिव अंजनी कुमार सिंह, पुलिस महानिदेशक श्री पी0के0 ठाकुर, प्रधान सचिव सामान्य प्रशासन श्री डी0एस0 गंगवार सहित अन्य विभागों के वरीय अधिकारी एवं गणमान्य व्यक्ति उपस्थित थे।