मुख्यमंत्री ने जल संसाधन विभाग के अधिकारियों को कटाव पर नजर रखने और समुचित कार्रवाई सुनिश्चित करने का दिया निर्देश

129
0
SHARE

पटना – मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने लोक आस्था के महापर्व छठ पर्व के मद्देनजर आज दूसरी बार छठ घाटों का निरीक्षण किया। उन्होंने स्टीमर से दानापुर के नासरीगंज से खाजेकलां घाट तक गंगा घाटों का निरीक्षण किया और घाटों की सफाई, सुरक्षा एवं स्वच्छता के संबंध में पदाधिकारियों को आवष्यक दिशा-निर्देश दिये।

मुख्यमंत्री ने लगभग ढ़ाई घंटे तक नासरीगंज से खाजेकलां घाट के बीच अवस्थित सभी छठ घाटों का मुख्यमंत्री ने बारीकी से अवलोकन किया और लगातार अधिकारियों को दिशा-निर्देश देते रहे ताकि छठव्रतियों को किसी प्रकार की कठिनाई न हो।

मुख्यमंत्री ने छठव्रतियों की सुविधा के लिए सीढ़ी और स्लोप ठीक कराने का निर्देश दिया। उन्होंने अधिकारियों को निर्देश दिया कि घाटों तक पहुॅचने की कनेक्टिविटी भी दुरूस्त की जाय। साथ ही सभी घाटों पर उपयुक्त बिजली की समुचित व्यवस्था सुनिष्चित की जाय। घाटों के कटाव के मद्देनजर उन्होंने कहा कि पानी के लेवल को देखकर वहाँ बैरिकेटिंग सुनिश्चित करायी जाय।

उन्होंने जल संसाधन विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिया कि कटाव पर नजर रखें और समुचित कार्रवाई सुनिश्चित करें। घाटों के आसपास बालू के जमाव को हटाने के साथ-साथ नदी के बीच में कहीं-कहीं जमा हुए बालू को भी हटाने का निर्देश दिया। डिसिल्टेशन से घाटों एवं नदी के बहाव को ठीक रखा जा सकता है। डिसिल्टेशन की वजहों का अध्ययन कराने का भी मुख्यमंत्री ने निर्देश दिया।

उन्होंने अधिकारियों को निर्देश दिया कि जहां भी श्रद्धालु भारी संख्या में अघ्र्य देने के लिये आते हैं, उन्हें अघ्र्य देने में असुविधा न हो, इसका पूरा ध्यान रखने की आवश्यकता है। उन्होंने कहा कि छठव्रती के अतिरिक्त दूसरे परिवार के श्रद्धालु आते हैं, इसके कारण होने वाली भीड़ को देखते हुये आवागमन को दुरुस्त रखना होगा।

मुख्यमंत्री के निरीक्षण के क्रम में उप मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी, पथ निर्माण मंत्री नंद किशोर यादव, ऊर्जा मंत्री विजेंद्र प्रसाद यादव, नगर विकास एवं आवास मंत्री सुरेश शर्मा, मेयर पटना नगर निगम सीता साहू, मुख्य सचिव दीपक कुमार सहित अन्य वरीय पदाधिकारी उपस्थित थे।