मुख्यमंत्री ने 30.29 करोड रूपये की लागत से निर्मित लवाईच-रामपुर बराज का किया लोकार्पण

386
0
SHARE

पटना: मुख्यमंत्री श्री नीतीश कुमार ने 30.29 करोड की लागत से निर्मित लवाईच-रामपुर बराज का उद्घाटन किया। लवाईच-रामपुर बराज का निरीक्षण करते हुये उन्होंने जल संसाधन विभाग के अभियंताओं से बराज के संबंध में विस्तृत जानकारी ली। लवाईच-रामपुर बराज से धनरूआ प्रखण्ड के रामपुर, लवाईच किरानीचक, पोसुत, थुम्भा, शिकोहा, लरहा, खडिहा, अंजनी, बौरही, केवाली एवं रधुनाथ ग्राम के आठ हजार हेक्टेयर क्षेत्र में कृषकों को सिचाई की सुविधा उपलब्ध होगी। मुख्यमंत्री श्री नीतीश कुमार द्वारा रिमोट के माध्यम से 8.85 करोड की लागत से निर्मित सोल्हण्डा वीयर योजना, 14.07 करोड की लागत से निर्मित मोर वीयर योजना, 11.13 करोड की लागत से निर्मित पंतीत वीयर सिचाई योजना तथा 5.55 करोड की लागत से निर्मित जगरनाथ वीयर सिचाई योजना का भी उद्घाटन किया गया।
इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने एक महती जनसभा को संबोधित करते हुये कहा कि इस क्षेत्र के लोगों से मुझे काफी स्नेह एवं सम्मान मिला है। इस क्षेत्र के लोगों ने मुझे पांच-पांच बार सांसद बनाया। आज लवाईच रामपुर बराज का लोकार्पण करते हुए मुझे अत्यंत खुशी का अनुभव हो रहा है। मुख्यमंत्री ने कहा कि सामान्यतः जल संसाधन विभाग, बाढ़ नियंत्रण, कटाव एवं बचाव के कार्य में लगा रहता है। अब जल संसाधन विभाग की दो शाखाएं होंगी। एक शाखा बाढ़ नियंत्रण एवं कटाव निरोधक कार्य में लगा रहेगा, जबकि दूसरी शाखा सिचाई के मूल कार्य में लगा रहेंगा, जिससे कि सिचाई की क्षमतावर्द्धन हो सके तथा किसानों को इसका सम्पूर्ण लाभ मिले। मुख्यमंत्री ने कहा कि बिहार में 69 लाख हेक्टेयर सिचाई संभावना है, जबकि वर्तमान में 29 लाख हेक्टेयर ही सृजित है। संभावित सिचाई के साधन के विकास के लिए सिचाई विभाग को निदेश दिया गया है।

मुख्यमंत्री ने कहा की निश्चय यात्रा के क्रम में नरौली गांव का भ्रमण किया। उन्होंने कहा कि शराबबंदी से प्रेम एवं सदभाव का माहौल कायम हुआ है। सभी धर्मों के लोग इसका व्यापक समर्थन कर रहें है। उन्होंने कहा कि लोग अपनी गाढ़ी कमाई शराब में खर्च कर देंते थे। लगभग 10 हजार करोड रूपये इसमें बर्बाद होता था, अब इन पैसों का उपयोग बेहतर तरीके से लोग कर रहें है। मिठाइयों एवं कपडों की बिक्री बढ़ी है। सिलाई मशीन की बिक्री में 19 प्रतिशत की बढोतरी हुई है। ये इसलिए हुआ है कि लोग अब अपने बच्चों एवं परिवार का ज्यादा ध्यान रख रहें है एवं नये-नये कपडे सिलवा रहें है। मुख्यमंत्री ने बताया कि अभी निश्चय यात्रा के क्रम में एक गांव की महिला मिली थी, उसने बताया की पहले उसका पति शराब पीकर आता था, उससे झगड़ा करता था एवं देखने में काफी क्रूर लगता था। शराबबंदी के बाद अब वो जल्दी घर आ जाते हैं, बच्चों का भी ध्यान रखते हैं और अब सुन्दर भी लगते हैं। मुख्यमंत्री ने बताया कि शराबबंदी के उपरांत अब हम पूर्ण नशामुक्ति की तरफ बढ़ रहें हैं। नशामुक्ति के पक्ष में मानव श्रृंखला बनाकर चार करोड लोगों ने अपनी एकजुटता का परिचय दिया है तथा सरकार की इस पहल का जबर्दस्त समर्थन प्रस्तुत किया है। मुख्यमंत्री ने जोर देकर कहा है कि नशा करने वाले के साथ-साथ इसका समर्थन करने की कोशिश करने वाले सरकारी कर्मियों के विरूद्ध भी कठोर कार्रवाई की जायेगी। उन्होंने बताया की अभी हाल में हीं बेउर थाना के थानाध्यक्ष सहित सभी कर्मियों को हटाया गया। ये उनलोगों के लिए चेतावनी है, जो इस तरह के कार्यों में संलिप्त है अथवा प्रत्यक्ष या परोक्ष रूप से इसका समर्थन कर रहें है।
इस अवसर पर उप मुख्यमंत्री श्री तेजस्वी प्रसाद यादव, जल संसाधन तथा योजना एवं विकास मंत्री श्री राजीव रंजन सिंह उर्फ ललन सिंह, वित्त मंत्री श्री अब्दुलबारी सिद्दिकी, विधायक श्रीमती रेखा देवी ने भी सम्बोधित किया। इस अवसर पर विधायक श्री श्याम रजक, विधान पार्षद श्री नीरज कुमार, विधान पार्षद श्री चन्देश्वर प्रसाद चंद्रवंशी, मुख्य सचिव श्री अंजनी कुमार सिंह, प्रधान सचिव जल संसाधन श्री अरूण कुमार सिंह, मुख्यमंत्री के सचिव श्री अतिश चन्द्रा, मुख्यमंत्री के विशेष कार्य पदाधिकारी श्री गोपाल सिंह, जिलाधिकारी पटना श्री संजय कुमार अग्रवाल, वरीय पुलिस अधीक्षक श्री मनु महाराज, जिला परिषद अध्यक्ष श्रीमती अंजू देवी सहित कई गणमान्य लोग उपस्थित थे।