मुझे किसी चीज का नशा नहीं, नशा तो भाजपा पर चढ़ा है : नीतीश

179
0
SHARE

पटना: बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने सोमवार को रांची के मोरहाबादी मैदान में झारखंड विकास मोर्चा के महाधिवेशन में बतौर मुख्य अतिथि शामिल होकर भाजपा पर जमकर हमला किया। उन्होंने कहा कि ये किसी के नहीं है़ं इनको सिर्फ कुरसी चाहिए। जिस तरह से झारखंड में जेवीएम को तोड़ने की कोशिश की गयी, उसे यह स्पष्ट है। ताकतवर हैं, तो एक ताकतवर दूसरे के घर में तोड़फोड़ नहीं करता।

उन्होंने दावा किया कि आज भी तकनीकी दृष्टि वे छह विधायक झाविमो के ही हैं। उन्होंने कहा कि झारखंड में सब कुछ ऊपर (दिल्ली) से चल रहा है। भाजपा को बाबूलाल से इस बात की चिढ़ है कि वह जमीन के आदमी हैं।

मुख्यमंत्री ने कहा कि चुनाव में हमारे बारे में क्या-क्या नहीं कहा गया। प्रधानमंत्री हमारे भी प्रधानमंत्री हैं, लेकिन वे मर्यादा भूल गये। भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष ने क्या-क्या नहीं कहा। मेरा डीएनए गड़बड़ बताया गया, अपमानित किया गया। मैं मर्यादा नहीं भूला। ये लोग चुनाव में ऊंची-ऊंची बातें करने वाले लोग है़।

लोकसभा चुनाव में कहा कि 15-20 लाख सबके खाते में आएं, अब उनके राष्ट्रीय अध्यक्ष कह रहे हैं कि वह सब जुमला था। विधानसभा के ताजा चुनाव परिणाम पर नीतीश ने कहा कि भाजपा ऐसे प्रचारित कर रही है, जैसे केवल असम में चुनाव हुआ था। वहां अगर गंठबंधन नहीं करते, तो जीत नहीं मिलती़ दहाई का आंकड़ा नहीं मिलता।

सीएम ने कहा कि कुछ लोग बिहार में जंगलराज की बात कर रहे है़। आज वहां काम हो रहा है, तो बेचैन है। एक मापदंड अपनाना चाहिए, कुछ घटनाएं हुई है। मैं भी चिंतित रहता हू़ं। उन घटनाओं में तुरंत कार्रवाई हुई़। सीवान और गया में जितनी तेजी से कार्रवाई हुई, शायद ही कहीं हुई हो। मेरा साफ मानना है कि कानून सब के लिए एक है। उसका अक्षरश: पालन होगा। अपराध करेगा, तो कानून से बाहर नहीं जा सकता है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि शराबबंदी का असर देखना है, तो बिहार के गांव में घूम कर आइए देखिए, वहां कैसा सुकून है, कैसी शांति है। अपराध कम हुआ है। सड़क दुर्घटनाएं कम हुई है। महिलाओं का उत्पीड़न घरों में नहीं हो रहा है। लोग मिल-जुल कर रहते है़ं। शाम को झगड़ा नहीं होता़ प्रेम का भाव है।

रघुवर दास के बयान पर चुटकी लेते हुए नीतीश ने कहा कि मैंने झारखंड में शराबबंदी का आग्रह किया, तो कहा जाता है कि मुझ पर सत्ता का नशा है। मुझ पर किसी चीज का नशा नहीं चढ़ता। नशा तो भाजपा पर चढ़ा है़। झारखंड में शिबू सोरेन ने भी शराबबंदी का अभियान चलाया था। यहां आदिवासियों को बदनाम किया जाता है।

इस अवसर पर बाबूलाल मरांडी को एक बार फिर झारखंड विकास मोर्चा के अध्यक्ष चुन लिए गए। पार्टी के महाधिवेशन में चुनाव प्रभारी विनोद शर्मा ने इसकी घोषणा की। उन्होंने रविवार को नामांकन पत्र भरा था। अध्यक्ष के लिए सिर्फ एक ही नामांकन आया, इसलिए सर्वसम्मति से उन्हें अध्यक्ष घोषित किया गया।