मोतिहारी केन्द्रीय विवि को मंजूरी, नमो को धन्यवाद दें नीतीश – मोदी

1104
0
SHARE

via Facebook

पटना 07.08.2014

केन्द्र की नरेन्द्र मोदी सरकार ने अपने दो महीने के कार्यकाल के दौरान ही मोतिहारी में स्थापित होने वाले केन्द्रीय विश्वविद्यालय के प्रस्ताव को कैबिनेट की मंजूरी देकर सराहनीय कार्य किया है। आज नीतीश कुमार जिस कांग्रेस और राजद के सहयोग से अपनी सरकार चला रहे हैं उसी कांग्रेस की नेतृत्ववाली तथा राजद समर्थित तत्कालीन यूपीए सरकार तीन साल तक बिल पर कुंडली मार कर बैठे रही, मगर संसद से उसे पास नहीं कराया। बिल पास कराने की यूपीए सरकार की मंशा ही नहीं थी बल्कि वह तो बिहार के लोगों को गया और मोतिहारी में प्रस्तावित केन्द्रीय विश्वविद्यालय के नाम पर लड़ाती रही। ऐसे में अब नीतीश कुमार को बिहारवासियों की मांग को पूरी करने के लिए नरेन्द्र मोदी को धन्यवाद देना चाहिए।

दूसरी ओर मोदी मंत्रिमंडल ने मोतिहारी में स्थापित होने वाले केन्द्रीय विश्वविद्यालय का नाम महात्मा गांधी पर रखने की भी स्वीकृति दी है जबकि कांग्रेस की मंशा महात्मा गांधी का नाम देने की कभी नहीं थी। इस मुद्दे पर तत्कालीन केन्द्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री कपिल सिब्बल अड़े रहे। उनका साफ कहना था कि देश के किसी भी केन्द्रीय विश्वविद्यालय का नाम किसी व्यक्ति पर नहीं है। दूसरी ओर भाजपा सहित चम्पारण की लाखों जनता की मांग और भावना थी कि वहां स्थापित होने वाले केन्द्रीय विश्वविद्यालय महात्मा गांधी के नाम पर हो क्योंकि चम्पारण स्वाधीनता संग्राम के दौरान महात्मा गांधी की कर्मभूमि रही है।

केन्द्रीय कैबिनेट ने विश्वविद्यालय की स्थापना के लिए 240 करोड़ रुपये की स्वीकृति भी दी है तथा जल्द ही संसद के दोनों सदनों से संबंधित बिल भी पास करा लिया जाएगा। इसी के साथ बिहारवासियों का सपना पूरा हो जाएगा, जहां सत्र 2015-16 से पढ़ाई शुरू हो जाएगी। केन्द्रीय कृषि मंत्री तथा मोतिहारी के सांसद राधामोहन सिंह का प्रयास भी इस दिशा में प्रशंसनीय रहा है। उनके प्रयास और विभिन्न मंत्रालयों की सहमति के बाद ही केन्द्रीय कैबिनेट ने इस प्रस्ताव पर अपनी मुहर लगाई है।