मौत की भगदड़ पर भाजपा का महाधरना

292
0
SHARE

दशहरा हादसे पर हो रही लीपापोती। चंद अधिकारियों का तबादला कार्रवाई नहीं। सरकार लोगों की आंखों में झोंक रही धूल। अधिकारी से अधिकारियों के खिलाफ जांच हास्यास्पद। ये सब कहना है विपक्ष का। साथ ही गृह सचिव को हटाने की सुशील मोदी ने की मांग। पांच साल से एक ही व्यक्ति गृह सचिव क्यों, ये पूछना है सुशील मोदी का। साथ ही यह सवाल भी कि “सभी बड़ी घटनाओं की जांच गृह सचिव को क्यों?” मौत की भगदड़ के विरोध में भाजपा का महाधरना। सुशील मोदी और शत्रुघ्न सिन्हा ने कारगिल चौक पर पहुंच कर धरना दिया। सुशील मोदी मसौढ़ी के कोरियामागढ़ गांव भी गए और गांधी मैदान हादसे के पीड़ित परिजनों से मुलाकात की। गांधी मैदान हादसे पर वे बोले कि अधिकारियों के सिर्फ तबादले से नहीं चलेगा काम। उनपर 302 का चलाया जाना चाहिए मुकदमा। मौत की भगदड़ पर वे बोले कि “दो सदस्यीय जांच टीम पर विश्वास नहीं” सर्वदलीय टीम गठित कर हो जांच।

मंत्री महाचंद्र सिंह का बयान सरकार पीएमसीएच मामले में गंभीर। सुधार के लिए उठाए जाएंगे जरुरी कदम। स्वास्थ्य सचिव आनंद किशोर ने बुलाई पीएमसीएच में बैठक। प्रिंसिपल और डॉक्टरों के साथ हुई बैठक। पीएमसीएच की खामियों पर थी बैठक। सीएम जीतम मांझी ने भी अधिकारियों के साथ बैठक की। मुख्य सचिव अंजनी कुमार सिंह भी बैठक में मौजूद थे। गांधी मैदान भगदड़ हादसा पर राजद महासचिव भगवान सिंह कुशवाहा का आरोप है कि भाजपा और आरएसएस ने मचवाई भगदड़। पटना आईजी को लेकर भी उठ रहे हैं गंभीर सवाल — क्या आईजी के रसूख ने बांध दिये सरकार के हाथ ?